कई देवता इस दुनिया में हैं, सब के रूप सुहाने हैं खाटू में जो सजकर बैठे हैं, हम बस उनके दीवाने हैं।।। ।। जय श्री श्याम।।

वो शरीर ही किस काम का, जो नाम ना ले श्याम का। ।। जय श्री श्याम।।

हारे का सहारा है ये, इससे ज्यादा कोई राज नहीं। जिस के सिर पर हाथ हो इसका, इससे महंगा कोई ताज नहीं।। ।। जय श्री श्याम।।

मेरे श्याम ! तुम पूछ लेना सुबह से, ना यकीन हो तो शाम से ये दिल धड़कता है सिर्फ बाबा श्याम तेरे ही नाम से।। ।। जय श्री श्याम।।

NEXT - पांच स्वर्ण बाणों की कहानी :