Current Date: 29 May, 2024
Sabke Ram APP

भज ले प्राणी रे अज्ञानी (Bhaj Le Prani Re Agyani) - Devendra Pathak


भज ले प्राणी रे अज्ञानी लिरिक्स हिंदी में (Bhaj Le Prani Re Agyani Lyricsin Hindi)

हम्म हम्म हम्म हम्म ..........
भज ले प्राणी रे अज्ञानी दो दिन की जिंदगानी,
कहाँ तू भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है
भज ले प्राणी रे अज्ञानी दो दिन की जिंदगानी,
कहाँ तू भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है

झूठी काया झूठी माया चक्कर में क्यों आया
जगत में भटक रहा है जगत में भटक रहा है
झूठी काया झूठी माया चक्कर में क्यों आया
जगत में भटक रहा है जगत में भटक रहा है

नर तन मिला है तुझे खो क्यों रहा है प्यारे खेल में
नर तन मिला है तुझे खो क्यों रहा है प्यारे खेल में
कंचन सी काया तेरी उलझी है विषयों के बेल में
सुख और दारा वैभव सारा कुछ भी नहीं तुम्हारा
व्यर्थ सिर पटक रहा है क्यों व्यर्थ भटक रहा है 
भज ले प्राणी रे अज्ञानी दो दिन की जिंदगानी,
कहाँ तू भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है
हम्म हम्म हम्म हम्म हम्म हम्म ...................

चंचल गुमानी मन अब तो जनम को सँवार ले
फिर न मिले तुझे अवसर ये ऐसा बारंबार रे
रे अज्ञानी तज नादानी भज ले प्रभु को पाणी
व्यर्थ सर पटक रहा है व्यर्थ क्यों भटक रहा है 
भज ले प्राणी रे अज्ञानी दो दिन की जिंदगानी,
कहाँ तू भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है

बड़े भाग्य मानुष तन पाया तुमने रे 
सुर दूर लव सद ग्रंथ ही गावा सुन ले रे 
झूठी काया झूठी माया चक्कर में क्यों आया 
देवेंद्र क्यों भटक रहा है व्यर्थ क्यों भटक रहा है 
भज ले प्राणी रे अज्ञानी दो दिन की जिंदगानी,
कहाँ तू भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है
यहाँ क्यों भटक रहा है यहाँ क्यों भटक रहा है

भज ले प्राणी रे अज्ञानी लिरिक्स अंग्रेजी में (Bhaj Le Prani Re Agyani Lyricsin English)

Hamm hamm hamm hamm ..........
Bhaj le praaṇii re ajñaanii do din kii jindagaanii,
Kahaan tuu bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai
Bhaj le praaṇii re ajñaanii do din kii jindagaanii,
Kahaan tuu bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai

Jhuuṭhii kaayaa jhuuṭhii maayaa chakkar men kyon aayaa
Jagat men bhaṭak rahaa hai jagat men bhaṭak rahaa hai
Jhuuṭhii kaayaa jhuuṭhii maayaa chakkar men kyon aayaa
Jagat men bhaṭak rahaa hai jagat men bhaṭak rahaa hai

Nar tan milaa hai tujhe kho kyon rahaa hai pyaare khel men
Nar tan milaa hai tujhe kho kyon rahaa hai pyaare khel men
Kanchan sii kaayaa terii ulajhii hai vishayon ke bel men
Sukh owr daaraa vaibhav saaraa kuchh bhii nahiin tumhaaraa
Vyarth sir paṭak rahaa hai kyon vyarth bhaṭak rahaa hai 
Bhaj le praaṇii re ajñaanii do din kii jindagaanii,
Kahaan tuu bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai
Hamm hamm hamm hamm hamm hamm ...................

Chanchal gumaanii man ab to janam ko sanvaar le
Phir n mile tujhe avasar ye aisaa baarambaar re
Re ajñaanii taj naadaanii bhaj le prabhu ko paaṇii
Vyarth sar paṭak rahaa hai vyarth kyon bhaṭak rahaa hai 
Bhaj le praaṇii re ajñaanii do din kii jindagaanii,
Kahaan tuu bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai

Bade bhaagy maanush tan paayaa tumane re 
Sur duur lav sad granth hii gaavaa sun le re 
Jhuuṭhii kaayaa jhuuṭhii maayaa chakkar men kyon aayaa 
Devendr kyon bhaṭak rahaa hai vyarth kyon bhaṭak rahaa hai 
Bhaj le praaṇii re ajñaanii do din kii jindagaanii,
Kahaan tuu bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai
Yahaan kyon bhaṭak rahaa hai yahaan kyon bhaṭak rahaa hai

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Devendra Pathak