Current Date: 14 Jun, 2024
Sabke Ram APP

माँ ब्रह्मचारिणी की कथा (Brahmacharini Ki Katha) - Rakesh Kala


माँ ब्रह्मचारिणी की कथा लिरिक्स हिंदी में (Brahmacharini Ki Katha Lyrics in Hindi)

हम आदि शक्ति माँ नव दुर्गा को शीश नवाते है 
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
तपश्चारिणी माता का तप त्याग दिखलाते है 
भक्तो तप दिखलाते है 
हम आदि शक्ति माँ नव दुर्गा को शीश नवाते है 
हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

कथा सुनाऊ आदि शक्ति की माँ ब्रह्मचारिणी की 
तपश्चारिणी जगदम्बा की कष्ट हरिणी की 
बाये हाथ में लिए कमंडल दाएं में माला 
सुन्दर रूप मनोहर माँ का है ममता वाला
नारद जी ने उपदेश दिया था और दिया था ज्ञान 
तप से तुमको मिल जायेंगे शिव शंकर भगवान् 
करो साधना शिव शंकर की मानो मेरी बात 
सत्य कथन है मेरा तुमको मिलेंगे भोले नाथ 
ध्यान लगा के सुनो मै आगे कथा बढ़ाते है 
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

पूर्व जन्म में दक्ष की पुत्री ये कहलायी थी 
हवन कुंड में कूद के अपनी जान गवाई थी 
दूजे जन्म में कैसे पड़ा था ब्रह्मचारिणी नाम 
कैसे पूरन करती थी अपने भक्तो के काम 
शिव शंकर को मन में धर करती थी तप भारी 
ह्रदय पटल में बसे थे उनके शम्भु त्रिपुरारी 
घोर तपस्या करने लगी माँ जंगल के जा कर 
वर्ष हजार गुजार दिए थे कंद मूल खाकर 
घोर तपस्या की तुमको कुछ अंश दिखाते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

आंधी वर्षा सर्दी गर्मी सब कुछ सहन किया 
वर्षो बीत गए तप करते कभी ना शयन किया 
लगन लगी शिव शंकर से मन में बसी थी प्रीत 
मन में था विश्वास एक दिन होगी मेरी जीत 
सौ वर्षो तक जग जननी ने खाये केवल शाक 
उसी तरह से कठिन तपस्या करती थी दिन रात 
वर्षो तक माँ जग जननी ने रखा था उपवास 
शिव शंकर की चाह में उनको भूख लगे ना प्यास
वर्ष हजारो कैसे बीते वो दिखलाते है भक्तो वो दिखलाते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

तीन हजार वर्ष तक माँ ने विलम्ब पत्र खाये 
निराहार माँ निर्जल रहके करती जाए 
बिन कुछ खाये पिये वर्ष यूँ गुजरे कई हजार 
आंधी गर्मी सर्दी सहती बारिश की बौछार 
शिव की खातिर माँ ने पत्र भी खाना छोड़ दिया 
नाम अर्पणा मैया का इसीलिए था एक पड़ा 
तप करने में माँ के आगे कोई नहीं शानी 
कहे वेद पुराण ये सारे ऋषियों की वाणी 
हो गई थी कमजोर माँ हम बतलाते है भक्तो हम बतलाते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

कठिन तपस्या के कारन से तन हो गया था क्षीण 
लगने लगी माँ ढाँचे जैसी बदन हो गया जीर्ण
ऋषि मुनि संग आये देवता तब माता के पास 
हाथ जोड़ बोले सब माँ से तोड़ दो अब उपवास 
जैसी तपस्या की है तुमने किसी ने भी ना की 
अब तक हमने तपश्चारिणी तुमसी ना देखी 
हुयी साधना पुरी माँ की जप तप से परिपूर्ण 
मनोकमना हो जाएगी जल्दी सी सम्पूर्ण  
पति रूप में शिव मिल जाए सत्य बताते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

तप छोड़ो अब घर को जाओ मानो मेरी बात 
आएंगे अब पिता तुम्हारे ले जायेंगे साथ 
वर्ष हजारो बीता दिए कठिन साधना में 
कमी नहीं है कोई तुम्हारी दिव्य प्रार्थना में 
तपश्चारिणी ब्रह्मचारिणी तुम ही अपर्णा हो 
शिव शंकर की तुम हो प्यारी तुम ही शिव रमना हो 
प्रतिदिन तुमको नमन करेगा सारा ये संसार 
कलियुग में तुम करोगी अपने भक्तो का उद्धार 
ऐसी ब्रह्मचारिणी मैया को शीश नवाते है चरणों शीश नवाते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

नाम दुत्तीय मिला है माँ को ब्रह्मचारिणी का 
दूजा दिन है नवराते में तपश्चारिणी का 
दूजे दिन पूजी जाती है ब्रह्मचारिणी माँ 
पूरन काज सभी के करती तपश्चारिणी माँ 
प्रथम शैल पुत्री जी है दूजे अर्पणा माँ 
ब्रह्मचारिणी तपश्चारिणी है शिव रमना माँ 
जय तुम्हारी आदि शक्ति माँ जय हो भवानी माँ 
जय जग जननी जय माँ दुर्गा जय कल्याणी माँ 
लिखा है जो सुखदेव ने तुमको गाके सुनाते है
ब्रह्मचारिणी माता का वृतांत सुनाते है हम गाथा गाते है 
जय ब्रह्म चारिणी माँ जय तपश्चारिणी माँ 
जय जगत तारिणी माँ जय कष्ट हारिणि माँ

माँ ब्रह्मचारिणी की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Brahmacharini Ki Katha Lyrics in English)

Ham aadi shakti maan nav durgaa ko shiish navaate hai 
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Tapashchaariṇii maataa kaa tap tyaag dikhalaate hai 
Bhakto tap dikhalaate hai 
Ham aadi shakti maan nav durgaa ko shiish navaate hai 
Ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Kathaa sunaauu aadi shakti kii maan brahmachaariṇii kii 
Tapashchaariṇii jagadambaa kii kashṭ hariṇii kii 
Baaye haath men lie kamanḍal daaen men maalaa 
Sundar ruup manohar maan kaa hai mamataa vaalaa
Naarad jii ne upadesh diyaa thaa owr diyaa thaa jñaana 
Tap se tumako mil jaayenge shiv shankar bhagavaan 
Karo saadhanaa shiv shankar kii maano merii baata 
Saty kathan hai meraa tumako milenge bhole naatha 
Dhyaan lagaa ke suno mai aage kathaa badhaate hai 
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Puurv janm men daksh kii putrii ye kahalaayii thii 
Havan kunḍ men kuud ke apanii jaan gavaaii thii 
Duuje janm men kaise padaa thaa brahmachaariṇii naama 
Kaise puuran karatii thii apane bhakto ke kaama 
Shiv shankar ko man men dhar karatii thii tap bhaarii 
Hraday paṭal men base the unake shambhu tripuraarii 
Ghor tapasyaa karane lagii maan jangal ke jaa kara 
Varsh hajaar gujaar die the kand muul khaakara 
Ghor tapasyaa kii tumako kuchh amsh dikhaate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Aandhii varshaa sardii garmii sab kuchh sahan kiyaa 
Varsho biit gae tap karate kabhii naa shayan kiyaa 
Lagan lagii shiv shankar se man men basii thii priita 
Man men thaa vishvaas ek din hogii merii jiita 
Sow varsho tak jag jananii ne khaaye keval shaaka 
Usii tarah se kaṭhin tapasyaa karatii thii din raata 
Varsho tak maan jag jananii ne rakhaa thaa upavaasa 
Shiv shankar kii chaah men unako bhuukh lage naa pyaas
Varsh hajaaro kaise biite vo dikhalaate hai bhakto vo dikhalaate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Tiin hajaar varsh tak maan ne vilamb patr khaaye 
Niraahaar maan nirjal rahake karatii jaae 
Bin kuchh khaaye piye varsh yuun gujare kaii hajaara 
Aandhii garmii sardii sahatii baarish kii bowchhaara 
Shiv kii khaatir maan ne patr bhii khaanaa chhod diyaa 
Naam arpaṇaa maiyaa kaa isiilie thaa ek padaa 
Tap karane men maan ke aage koii nahiin shaanii 
Kahe ved puraaṇ ye saare ṛshiyon kii vaaṇii 
Ho gaii thii kamajor maan ham batalaate hai bhakto ham batalaate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Kaṭhin tapasyaa ke kaaran se tan ho gayaa thaa kshiiṇa 
Lagane lagii maan ḍhaanche jaisii badan ho gayaa jiirṇ
Ṛshi muni sang aaye devataa tab maataa ke paasa 
Haath jod bole sab maan se tod do ab upavaasa 
Jaisii tapasyaa kii hai tumane kisii ne bhii naa kii 
Ab tak hamane tapashchaariṇii tumasii naa dekhii 
Huyii saadhanaa purii maan kii jap tap se paripuurṇa 
Manokamanaa ho jaaegii jaldii sii sampuurṇ  
Pati ruup men shiv mil jaae saty bataate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Tap chhodo ab ghar ko jaao maano merii baata 
Aaenge ab pitaa tumhaare le jaayenge saatha 
Varsh hajaaro biitaa die kaṭhin saadhanaa men 
Kamii nahiin hai koii tumhaarii divy praarthanaa men 
Tapashchaariṇii brahmachaariṇii tum hii aparṇaa ho 
Shiv shankar kii tum ho pyaarii tum hii shiv ramanaa ho 
Pratidin tumako naman karegaa saaraa ye samsaara 
Kaliyug men tum karogii apane bhakto kaa uddhaara 
Aisii brahmachaariṇii maiyaa ko shiish navaate hai charaṇon shiish navaate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

Naam duttiiy milaa hai maan ko brahmachaariṇii kaa 
Duujaa din hai navaraate men tapashchaariṇii kaa 
Duuje din puujii jaatii hai brahmachaariṇii maan 
Puuran kaaj sabhii ke karatii tapashchaariṇii maan 
Pratham shail putrii jii hai duuje arpaṇaa maan 
Brahmachaariṇii tapashchaariṇii hai shiv ramanaa maan 
Jay tumhaarii aadi shakti maan jay ho bhavaanii maan 
Jay jag jananii jay maan durgaa jay kalyaaṇii maan 
Likhaa hai jo sukhadev ne tumako gaake sunaate hai
Brahmachaariṇii maataa kaa vṛtaant sunaate hai ham gaathaa gaate hai 
Jay brahm chaariṇii maan jay tapashchaariṇii maan 
Jay jagat taariṇii maan jay kashṭ haariṇi maan

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala