Current Date: 14 Jun, 2024
Sabke Ram APP

दुख में मत घबराना पंछी (Dukh Mein Mat Ghabrana Panchhi) - Satyendra Pathak


दुख में मत घबराना पंछी लिरिक्स हिंदी में (Dukh Mein Mat Ghabrana Panchhi Lyrics in Hindi)

दुख में मत घबराना पंछी,ये जग दुःख का मेला है,
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है

नन्हे कोमल पंख ये तेरे और गगन की ये दुरी,
बैठ गया तो कैसे होगी मन की अभिलाषा पूरी,
बैठ गया तो कैसे होगी मन की अभिलाषा पूरी,
उसका नाम अमर है जग में जिसने संकट झेला है 
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है

चतुर शिकारी ने रखा है जाल बिछा कर पग पग पर,
फस मत जाना भूल से पगले पछतायेगा जीवन भर,
फस मत जाना भूल से पगले पछतायेगा जीवन भर,
लोभ में दाने के मत पड़ना बड़े समझ का अकेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है

जब तक सूरज आसमान पर बढ़ता चल तू बढ़ता चल,
घिर जायगे अन्धकार जब बड़ा कठिन हो गा पल पल,
घिर जायगे अन्धकार जब बड़ा कठिन हो गा पल पल,
किसे पता की उड़ जाने की आ जाती कब वेला है,
चाहे भीड़  बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है
दुःख में मत घबराना पंछी ये जग दुःख का मेला है
चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर उड़ना तुझे अकेला है

दुख में मत घबराना पंछी लिरिक्स अंग्रेजी में (Dukh Mein Mat Ghabrana Panchhi Lyrics in English)

Dukh men mat ghabaraanaa panchhii,ye jag duahkh kaa melaa hai,
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai

Nanhe komal pankh ye tere owr gagan kii ye durii,
Baiṭh gayaa to kaise hogii man kii abhilaashaa puurii,
Baiṭh gayaa to kaise hogii man kii abhilaashaa puurii,
Usakaa naam amar hai jag men jisane sankaṭ jhelaa hai 
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai

Chatur shikaarii ne rakhaa hai jaal bichhaa kar pag pag par,
Phas mat jaanaa bhuul se pagale pachhataayegaa jiivan bhar,
Phas mat jaanaa bhuul se pagale pachhataayegaa jiivan bhar,
Lobh men daane ke mat padanaa bade samajh kaa akelaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai

Jab tak suuraj aasamaan par badhataa chal tuu badhataa chal,
Ghir jaayage andhakaar jab badaa kaṭhin ho gaa pal pal,
Ghir jaayage andhakaar jab badaa kaṭhin ho gaa pal pal,
Kise pataa kii ud jaane kii aa jaatii kab velaa hai,
Chaahe bhiid  bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai
Duahkh men mat ghabaraanaa panchhii ye jag duahkh kaa melaa hai
Chaahe bhiid bahut ambar par udanaa tujhe akelaa hai

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Satyendra Pathak