Current Date: 29 Feb, 2024
Sabke Ram APP

गोगा पीर की कथा (Goga Peer Ki Katha) - Rakesh Kala


गोगा पीर की कथा लिरिक्स हिंदी में (Goga Peer Ki Katha Lyrics in Hindi)

हम राजस्थान के ददरेवा की कथा सुनाते है 
पावन कथा सुनाते है 
जाहरवीर के जीवन का परिचय करवाते है 
हम कथा सुनाते है 
तुम्हे आज हम गोगा मेडी धाम दिखाते है 
गोरख नाथ ने कैसे दिया वरदान बताते है 
हम कथा सुनाते है 
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

चूरू जिला ददरेवा में जन्मे प्रांत है राजस्थान 
बाछल देवी माँ जिनकी पिता जेवर सिंह चौहान 
केलमती पत्नी थी ,दादा उमर सिंह चौहान 
गोरख नाथ गुरु थे जिनके ,ज्ञानवान गुणवान 
गोगा मेड़ी कहलाता है बना जहाँ है धाम 
फैला है सारी दुनिया में जाहरवीर का नाम 
कष्ट निवारण करते है सबके बाबा गोगापीर 
बड़े दयालु और कृपालु बाबा जाहरवीर 
कैसे जन्म हुआ गोगा का वो बतलाते है 
जाहेवीर के जीवन का परिचय करवाते है 
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

वार्ता 

राजस्थान के चूरू जिले में ददरेवा नामक स्थान है जहाँ चौहान वंश के राजा उमर सिंह चौहान राज करते थे राजा उमर सिंह चौहान के दो पुत्र हुए एक का नाम जेवर सिंह दूसरे का घेवर सिंह था उन दोनों भाइयों का विवाह सरसा पट्टन की राज कुमारियों से हुआ था ,दोनों सगी बहने थी बड़ी राजकुमारी बाछल देवी के साथ हुआ छोटी राजकुमारी का विवाह छोटे भाई घेवर सिंह के साथ होता है विवाह के कई वर्षो के बाद भी दोनों रानियों को संतान का सुख नहीं मिलता है तो वो सब चिंता में डूब जाते है

पूजा पाठ दान करवाए पूजे साधु संत 
इक संतान बिना ह्रदय में पीड़ा बसी अंनत
मंदिर जाते आंसू बहाते मिल जाए संतान 
व्रत रखते और कथा बांचते पढ़ते वेद पुराण 
सुना किसी के मुख से उन्होंने गुरु है गोरखनाथ 
करते है दुखियों के ऊपर दया की वो बरसात 
उनका दिया वरदान कभी भी खाली नहीं जाता 
जो भी मांगो उनसे जाकर वो सब मिल जाता 
गोरखनाथ सभी के ऊपर दया लुटाते है
जाहरवीर के जीवन का दर्शन करवाते है 
हम कथा सुनाते है 
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

वार्ता 

दोनों रानिया बाछल देवी और काछल देवी गुरु गोरखनाथ की पूजा करने  है महल के अंदर ही उनकी पूजा आराधना करती है व्रत उपवास रखती है अन्नदान वस्त्र दान और ब्रह्माणो को भोजन आदि कराती है कई महीनो तक यही क्रम चलता रहा फिर एक दिन काछल देवी बाछल देवी को बताये बिना गुरु गोरखनाथ के दर्शन करनी चली जाती है 

काछल रानी अपने मन में करके एक विचार 
चली अकेले काछल रानी गोरख नाथ के द्वार 
गोरखनाथ के चरणों में गिर मांगे  आशीर्वाद 
पुत्र प्राप्ति का वर मुझको दे दो गोरखनाथ 
विपदा की मारी हूँ बाबा दे दो इक संतान 
बिना संतान मिले ना बाबा मुझे कही सम्मान 
गोरखनाथ है बड़े दयालु सनकी उसकी बात 
पुत्र प्राप्ति का काछल को दे दिया आशीर्वाद 
पुत्र रत्न की होगी प्राप्ति उसे बताते है 
जाहरवीर के जीवन का परिचय करवाते है 
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

वार्ता 

काछल बाबा गोरखनाथ से पुत्र प्राप्ति का वरदान लेकर राज महल में आ जाती है,नौ माह के पश्चात काछल रानी से दो पुत्रो को जन्म दिया उन दोनों पुत्रो के नाम अर्जुन सर्जुन रखते है अब बाछल रानी चिंता में डूब जाती है की मेरी छोटी बहन को दो दो दो पुत्रो की प्राप्ति हो गई और मै बाँझ की बाँझ ही रही जब की बाबा गोरखनाथ जी की भक्ति पूजा अर्चना हम दोनों ने बराबर की थी बाछल भी गोरख नाथ के शरण में जाती है 

बाछल रानी जाती है जब गोरकनाथ के पास 
चेहरा बुझा हुआ था उसका वो थी बड़ी निरास 
चरणों में गिर के आंसू बहाये रोरो करे पुकार 
किस्मत मेरी फूटी है बाबा रूठे है करतार 
गोरखनाथ जी उससे बोले दे चुका हूँ वरदान 
काछल ने वरदान रूप में मांगी थी संतान 
बाछल बोली हाथ जोड़ के दया करो के हे नाथ 
पुत्र प्राप्ति का मुझको भी दे दो आशीर्वाद 
बाछल की आँखों से आंसू बहते जाते है 
जाहरवीर के जीवन का परिचय करवाते है 
हम कथा सुनाते है 
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

वार्ता 

गुरु गोरखनाथ जी जो बाछल के ऊपर दया आ जाती है वो बाछल को एक दिव्य पुत्र प्राप्ति का वरदान देते है बाछल उनका आशीर्वाद लेकर महल में आ जाती है कुछ जाहरवीर जी का जन्म होता है ठीक उसी दिन एक ब्रह्मण के घर मेंनर सिंह पांडे का जन्म होता है और एक बामिल्की के घर में रत्नाजी बाल्मीकि का जन्म हुआ और एक हरिजन के घर भज्जू कोतवाल का जन्म हुआ था जो बड़े होकर गोगा पीर जी के परम मित्र हुए साथ रहते साथ खेलते साथ ही खाते

जाति धर्म का भेद नहीं है गोगा के दरबार 
हर मजहब के लोग पा रहे गोगा जी का प्यार 
मुस्लिम गोगा पीर पुकारे हिन्दू जाहरवीर 
हिन्दू मुस्लिम कोई हो हरते है सबकी पीर 
गोरख नाथ शिष्य है गोगा गुग्गा  भी है नाम 
कई नामो से जाना जाए गोगा जी का धाम 
जाहरवीर के दर पर जो भी दुखिया आता है 
मुँह माँगा वरदान यहाँ से लेकर जाता है 
रोते रोते आते है जो हँसके जाते है 
हाथ जोड़ सुखदेव द्वार पर शीश झुकाते है 
हम कथा सुनाते है
जय जय जय जाहरवीर जय जय गोगा पीर 
जय जय गोगा पीर जय जय जय जाहरवीर

गोगा पीर की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Goga Peer Ki Katha Lyrics in English)

Ham raajasthaan ke dadarevaa kii kathaa sunaate hai 
Paavan kathaa sunaate hai 
Jaaharaviir ke jiivan kaa parichay karavaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Tumhe aaj ham gogaa meḍii dhaam dikhaate hai 
Gorakh naath ne kaise diyaa varadaan bataate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviir

Chuuruu jilaa dadarevaa men janme praant hai raajasthaana 
Baachhal devii maan jinakii pitaa jevar sinh chowhaana 
Kelamatii patnii thii ,daadaa umar sinh chowhaana 
Gorakh naath guru the jinake ,jñaanavaan guṇavaana 
Gogaa medii kahalaataa hai banaa jahaan hai dhaama 
Phailaa hai saarii duniyaa men jaaharaviir kaa naama 
Kashṭ nivaaraṇ karate hai sabake baabaa gogaapiira 
Bade dayaalu owr kṛpaalu baabaa jaaharaviira 
Kaise janm huaa gogaa kaa vo batalaate hai 
Jaaheviir ke jiivan kaa parichay karavaate hai 
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviira

Vaartaa 

Raajasthaan ke chuuruu jile men dadarevaa naamak sthaan hai jahaan chowhaan vamsh ke raajaa umar sinh chowhaan raaj karate the raajaa umar sinh chowhaan ke do putr hue ek kaa naam jevar sinh duusare kaa ghevar sinh thaa un donon bhaaiyon kaa vivaah sarasaa paṭṭan kii raaj kumaariyon se huaa thaa ,donon sagii bahane thii badii raajakumaarii baachhal devii ke saath huaa chhoṭii raajakumaarii kaa vivaah chhoṭe bhaaii ghevar sinh ke saath hotaa hai vivaah ke kaii varsho ke baad bhii donon raaniyon ko santaan kaa sukh nahiin milataa hai to vo sab chintaa men ḍuub jaate hai 

Puujaa paaṭh daan karavaae puuje saadhu santa 
Ik santaan binaa hraday men piidaa basii amnat
Mandir jaate aansuu bahaate mil jaae santaana 
Vrat rakhate owr kathaa baanchate padhate ved puraaṇa 
Sunaa kisii ke mukh se unhonne guru hai gorakhanaatha 
Karate hai dukhiyon ke uupar dayaa kii vo barasaata 
Unakaa diyaa varadaan kabhii bhii khaalii nahiin jaataa 
Jo bhii maango unase jaakar vo sab mil jaataa 
Gorakhanaath sabhii ke uupar dayaa luṭaate hai
Jaaharaviir ke jiivan kaa darshan karavaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviira

Vaartaa 

Donon raaniyaa baachhal devii owr kaachhal devii guru gorakhanaath kii puujaa karane  hai mahal ke amdar hii unakii puujaa aaraadhanaa karatii hai vrat upavaas rakhatii hai annadaan vastr daan owr brahmaaṇo ko bhojan aadi karaatii hai kaii mahiino tak yahii kram chalataa rahaa phir ek din kaachhal devii baachhal devii ko bataaye binaa guru gorakhanaath ke darshan karanii chalii jaatii hai 

Kaachhal raanii apane man men karake ek vichaara 
Chalii akele kaachhal raanii gorakh naath ke dvaara 
Gorakhanaath ke charaṇon men gir maange  aashiirvaada 
Putr praapti kaa var mujhako de do gorakhanaatha 
Vipadaa kii maarii huun baabaa de do ik santaana 
Binaa santaan mile naa baabaa mujhe kahii sammaana 
Gorakhanaath hai bade dayaalu sanakii usakii baata 
Putr praapti kaa kaachhal ko de diyaa aashiirvaada 
Putr ratn kii hogii praapti use bataate hai 
Jaaharaviir ke jiivan kaa parichay karavaate hai 
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviira

Vaartaa 

Kaachhal baabaa gorakhanaath se putr praapti kaa varadaan lekar raaj mahal men aa jaatii hai,now maah ke pashchaat kaachhal raanii se do putro ko janm diyaa un donon putro ke naam arjun sarjun rakhate hai ab baachhal raanii chintaa men ḍuub jaatii hai kii merii chhoṭii bahan ko do do do putro kii praapti ho gaii owr mai baanjh kii baanjh hii rahii jab kii baabaa gorakhanaath jii kii bhakti puujaa archanaa ham donon ne baraabar kii thii baachhal bhii gorakh naath ke sharaṇ men jaatii hai 

Baachhal raanii jaatii hai jab gorakanaath ke paasa 
Cheharaa bujhaa huaa thaa usakaa vo thii badii niraasa 
Charaṇon men gir ke aansuu bahaaye roro kare pukaara 
Kismat merii phuuṭii hai baabaa ruuṭhe hai karataara 
Gorakhanaath jii usase bole de chukaa huun varadaana 
Kaachhal ne varadaan ruup men maangii thii santaana 
Baachhal bolii haath jod ke dayaa karo ke he naatha 
Putr praapti kaa mujhako bhii de do aashiirvaada 
Baachhal kii aankhon se aansuu bahate jaate hai 
Jaaharaviir ke jiivan kaa parichay karavaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviira

Vaartaa 

Guru gorakhanaath jii jo baachhal ke uupar dayaa aa jaatii hai vo baachhal ko ek divy putr praapti kaa varadaan dete hai baachhal unakaa aashiirvaad lekar mahal men aa jaatii hai kuchh jaaharaviir jii kaa janm hotaa hai ṭhiik usii din ek brahmaṇ ke ghar mennar sinh paanḍe kaa janm hotaa hai owr ek baamilkii ke ghar men ratnaajii baalmiiki kaa janm huaa owr ek harijan ke ghar bhajjuu kotavaal kaa janm huaa thaa jo bade hokar gogaa piir jii ke param mitr hue saath rahate saath khelate saath hii khaate

Jaati dharm kaa bhed nahiin hai gogaa ke darabaara 
Har majahab ke log paa rahe gogaa jii kaa pyaara 
Muslim gogaa piir pukaare hinduu jaaharaviira 
Hinduu muslim koii ho harate hai sabakii piira 
Gorakh naath shishy hai gogaa guggaa  bhii hai naama 
Kaii naamo se jaanaa jaae gogaa jii kaa dhaama 
Jaaharaviir ke dar par jo bhii dukhiyaa aataa hai 
Munh maangaa varadaan yahaan se lekar jaataa hai 
Rote rote aate hai jo hansake jaate hai 
Haath jod sukhadev dvaar par shiish jhukaate hai 
Ham kathaa sunaate hai
Jay jay jay jaaharaviir jay jay gogaa piira 
Jay jay gogaa piir jay jay jay jaaharaviira

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala