Current Date: 22 Apr, 2024
Sabke Ram APP

गुरु जी की गाथा (Guru Ji Ki Gatha) - Sanjay Gulati


गुरु जी की गाथा लिरिक्स हिंदी में (Guru Ji Ki Gatha Lyrics in Hindi)

शिव अवतारी गुरु जी की हम कथा सुनाते है 
हम कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
जो रोम रोम में भक्तजनो के सुख पहुंचाते है 
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

पंजाब राज जिला शुगृ डुंगरी है एक गांव 
शुद्ध वहां की भाषा शैली ठंडी वृक्ष की छांव 
सात जुलाई 1952  खुशियां लाया था 
शिव जी ने डुंगरी मे खुद को ही जन्माया था 
डुंगरी में ही बीता बचपन मेरे गुरु जी का 
अध्ययन कर के मान रखा था अपने पिता जी का 
गुरु जी की अब ज्ञान रोशनी चारो ओर जली 
गुरु जी ने वर दिया जिसे बेल उसकी फूली फली 
आये धारा पर महादेव गुरु भेष बनाते है
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

बचपन में ही गुरु जी ने था अचरज दिखलाया 
कही से भी हो लुप्त कही जा दर्शन दिख लाया 
तीनो लोक के थे ये स्वामी गर्भ ना मन में था 
नजर दया की जिस पर फिर ना रोग तन में था 
धीरे धीरे लहराने लगा दया का वो परचम 
आशा ले जो दर पर आता छूते उसे ना गम
सब के हित के लिए गुरु जी ने घर को छोड़ दिया 
समझ गए फिर मात पिता की शिव ने जन्म लिया 
फिर मात पिता बेटे को गुरु जी ही बुलाते है
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

निसदिन गुरु जी भक्तो सत संग किया करते 
मुंबई दिल्ली पंचकूला करुणा वर्षा करते 
चड़ीगढ़ जालंधर में भी मीठे वचन कहे 
हो गई मौज उन भक्तो की जो सच्चे मन आये 
दिल्ली जालंधर के बीच एक शट डाउन किया 
एमजी रोड पर छोटे मंदिर का निर्माण किया 
छतरपुर के भट्टी खान में शिव मंदिर बनवाया 
छवि बसी यहाँ गुरु जी की बड़ा मंदिर कहलाया 
गुरु जी की पाने को दया यहाँ लाखो आते है
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

इकतीस मई 2007  का वो दिन आया था 
 शिव अवतारी गुरु जी ने शिव को ही पाया था 
भक्तजनो के तीनो काल गुरु जी ही जानते थे 
भक्त दीवाने गुरु जी को भी प्राण मानते थे 
लाखो रोगी मुक्त हुए गुरु दर्शन पाने से 
हर मनसा पूरी होती बड़े मंदिर आने से 
दिन में प्रसाद चाय वा लंगर जो भी पाता है 
रोग दोष से दूर वो हो वे हर सुख पाता है 
हाथ जोड़ संजय के साथ गुणगान सुनाते है
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

जिसने जब जब गुरु जी का मन से है ध्यान किया 
सारे ही संताप हरे फिर सुख वरदान दिया 
एक प्रार्थना गुरुवर मेरी अपनी महर करो 
कर दो अब करुणा की वर्षा अब ना देर करो 
चमत्कारी गुरु जी की गाथा जो रसपान करे 
 ना अटके फिर भवर में नैया पल में पार करे 
मुनेंद्र प्रेम जी यूपी वाले काशगंज रहते है 
माता पिता है प्रेम शांति गुरु हृदेश को कहते है 
डुंगरी वाले गुरु जी को हम शीश झुकाते है
पावन कथा सुनाते है 
दुःख हर्ता सुख करता की हम गाथा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
मेरे गुरु जी दीनदयाल भक्तो का रखे ख्याल 
भक्तो का रखे ख्याल मेरे गुरु जी दीनदयाल

गुरु जी की गाथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Guru Ji Ki Gatha Lyrics in English)

Shiv avataarii guru jii kii ham kathaa sunaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Jo rom rom men bhaktajano ke sukh pahunchaate hai 
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaal

Panjaab raaj jilaa shugṛ ḍungarii hai ek gaanva 
Shuddh vahaan kii bhaashaa shailii ṭhanḍii vṛksh kii chhaanva 
Saat julaaii 1952  khushiyaan laayaa thaa 
Shiv jii ne ḍungarii me khud ko hii janmaayaa thaa 
Ḍungarii men hii biitaa bachapan mere guru jii kaa 
Adhyayan kar ke maan rakhaa thaa apane pitaa jii kaa 
Guru jii kii ab jñaan roshanii chaaro or jalii 
Guru jii ne var diyaa jise bel usakii phuulii phalii 
Aaye dhaaraa par mahaadev guru bhesh banaate hai
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaala

Bachapan men hii guru jii ne thaa acharaj dikhalaayaa 
Kahii se bhii ho lupt kahii jaa darshan dikh laayaa 
Tiino lok ke the ye svaamii garbh naa man men thaa 
Najar dayaa kii jis par phir naa rog tan men thaa 
Dhiire dhiire laharaane lagaa dayaa kaa vo parachama 
Aashaa le jo dar par aataa chhuute use naa gam
Sab ke hit ke lie guru jii ne ghar ko chhod diyaa 
Samajh gae phir maat pitaa kii shiv ne janm liyaa 
Phir maat pitaa beṭe ko guru jii hii bulaate hai
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaal

Nisadin guru jii bhakto sat sang kiyaa karate 
Munbaii dillii panchakuulaa karuṇaa varshaa karate 
Chadiigadh jaalandhar men bhii miiṭhe vachan kahe 
Ho gaii mowj un bhakto kii jo sachche man aaye 
Dillii jaalandhar ke biich ek shaṭ ḍaaun kiyaa 
Emajii roḍ par chhoṭe mandir kaa nirmaaṇ kiyaa 
Chhatarapur ke bhaṭṭii khaan men shiv mandir banavaayaa 
Chhavi basii yahaan guru jii kii badaa mandir kahalaayaa 
Guru jii kii paane ko dayaa yahaan laakho aate hai
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaala

Ikatiis maii 2007  kaa vo din aayaa thaa 
shiv avataarii guru jii ne shiv ko hii paayaa thaa 
Bhaktajano ke tiino kaal guru jii hii jaanate the 
Bhakt diivaane guru jii ko bhii praaṇ maanate the 
Laakho rogii mukt hue guru darshan paane se 
Har manasaa puurii hotii bade mandir aane se 
Din men prasaad chaay vaa langar jo bhii paataa hai 
Rog dosh se duur vo ho ve har sukh paataa hai 
Haath jod sanjay ke saath guṇagaan sunaate hai
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaal

Jisane jab jab guru jii kaa man se hai dhyaan kiyaa 
Saare hii santaap hare phir sukh varadaan diyaa 
Ek praarthanaa guruvar merii apanii mahar karo 
Kar do ab karuṇaa kii varshaa ab naa der karo 
Chamatkaarii guru jii kii gaathaa jo rasapaan kare 
 naa aṭake phir bhavar men naiyaa pal men paar kare 
Munendr prem jii yuupii vaale kaashaganj rahate hai 
Maataa pitaa hai prem shaanti guru hṛdesh ko kahate hai 
Ḍungarii vaale guru jii ko ham shiish jhukaate hai
Paavan kathaa sunaate hai 
Duahkh hartaa sukh karataa kii ham gaathaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Mere guru jii diinadayaal bhakto kaa rakhe khyaala 
Bhakto kaa rakhe khyaal mere guru jii diinadayaala

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Sanjay Gulati