Current Date: 19 May, 2024
Sabke Ram APP

हनुमान जी का दिल (Hanuman JI ka Dil) - Sagar Sanwariya


हनुमान जी का दिल लिरिक्स हिंदी में (Hanuman JI ka Dil Lyrics in Hindi)

सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल,
सिया रघुवर का मंदिर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल


सिया के पास लंका में समुन्दर लांग कर पोंछा,
ये उड़ ने में सिकंदर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल

पिला संजीवनी भुट्टी बचाए प्राण लक्षमण के,
ये नेकी का समुन्दर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल

पूरी पातल में जा के असुर अहि रावन हर डाला
ये शक्ति का धुरंदर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल

अनाडी सच कहे सागर ना मानो आप की मर्जी
ये कलियों से भी सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल

सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल,
सिया रघुवर का मंदिर है मेरे हनुमान जी का दिल
सभी देवो से सुंदर है मेरे हनुमान जी का दिल

हनुमान जी का दिल लिरिक्स अंग्रेजी में (Hanuman JI ka Dil Lyrics in English)

sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil,
siya rghuvar ka mandir hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil


siya ke paas lanka me samundar laang kar ponchha,
ye ud ne me sikandar hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil

pila sanjeevani bhutti bchaae praan lakshman ke,
ye neki ka samundar hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil

poori paatal me ja ke asur ahi raavan har daalaa
ye shakti ka dhurandar hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil

anaadi sch kahe saagar na maano aap ki marjee
ye kaliyon se bhi sundar hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil

sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil,
siya rghuvar ka mandir hai mere hanuman ji ka dil
sbhi devo se sundar hai mere hanuman ji ka dil

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Sagar Sanwariya