Current Date: 21 Jun, 2024
Sabke Ram APP

माँ चंद्रघंटा की कथा (Katha Maa Chandraghanta ki) - Rakesh Kala


माँ चंद्रघंटा की कथा लिरिक्स हिंदी में (Katha Maa Chandraghanta ki Lyrics in Hindi)

हम चंद्रघंटा मैया की तुमको कथा सुनाते है 
पावन कथा सुनाता हूँ हूँ 
शक्ति स्वरुप चंद्रघंटा की महिमा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
नवरातो की तीसरे दिन का सार बताते है 
पावन कथा सुनाता हूँ हूँ 
शक्ति स्वरुप चंद्रघंटा की महिमा गाते है 
हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

चंद्रघंटा की कथा सुनाऊ सुनो लगा के ध्यान 
धन वैभव सुख देने वाली माँ की है पहचान 
तीजे  दिन है नवरातों का चंद्रघंटा के नाम 
पूजा करके माँ के रूप का बन जाए सब काम 
रूप सलोना सुन्दर माँ का छवि बड़ी प्यारी 
महक रही है माँ के नाम से जग की फुलवारी 
चाँद के जैसे मुखड़ा चमके रूप चंद्र बदनी
जय हो तुम्हारी चंद्रघंटा माँ जय हो जग जननी 
दया करो सुखदेव पे माता शीश झुकाते है 
हम चंद्रघंटा मैया की पावन गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

शोभित है माँ के हाथो में गदा धनुष तलवार 
उठा के त्रिशूल कर रही है दुष्टो का संहार 
अर्ध चंद्र घंटे का माँ के शीश पे है आकार
भक्तो की हित के खातिर माँ रहती है तैयार 
पूजा कर के आरती गाके माँ को रिझाते है 
दूध बने व्यंजन से माँ को भोग लगाते है 
चरणों में अर्पित करते है पुष्प चमेली का 
रूप निहारे भक्त ये सारे अम्बे देवी का 
ध्यान लगा के सुनो कथा हम आगे बढ़ाते है 
मै कथा सुनाता हूँ
शक्ति स्वरुप चंद्रघंटा की महिमा गाते है 
मै कथा सुनाते गए 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

स्वर्ग लोक में जब असुरो का बढ़ने लगा आतंक 
सारे थे आतंकित उनसे ऋषि मुनि और संत 
महिषासुर के आगे चले ना देवताओं का जोर 
इंद्र देव भी उसके आगे पड़ जाते कमजोर 
त्राहि त्राहि मच गई थी स्वर्ग में मची थी भागम भाग 
भाग रहे थी जान बचा के राज पाट सब त्याग  
संकट में थे प्राण देवो के सूझे नहीं उपाए 
किसी तरह से महिषासुर से छुटकारा मिल जाए 
फिर क्या करते है सब मिल कर के वही बताते है 
शक्ति स्वरूपा चंद्रघंटा की महिमा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

सभी देवता मिलकर के ब्रह्मा के पास गए 
ब्रह्मा जी ही मदद करेंगे ले कर आस गए 
ब्रह्मा विष्णु महेश तीनो क्रोध में आते है 
महिषाषुर का त्रास देवता जब बतलाते है 
महिषासुर से स्वर्ग लोक में जीना हुआ मुहाल 
कोई उपाए बताओ भगवन हमें तुरंत तत्काल 
ब्रह्मा विष्णु महेश के मुख से ऊर्जा हुयी उत्पन्न 
स्वर्ग धारा पाताल में सारे होने लगी कम्पन 
ऊर्जा से उत्पन्न हुयी माँ हम सत्य बताते है 
शक्ति स्वरूपा चंद्रघंटा की महिमा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

शंकर त्रिशूल दिया विष्णु ने चक्क्र दिया 
देवतराज धन्य सूर्य ने अपना तेज दिया 
सूर्य देव ने तेज और तलवार दिया उनको 
देवो ने भी शाश्त्रो का उपहार दिया उनको 
नाम कारन फिर सभी ने मिल करके उनका 
सबने बोला जय हो तुम्हारी जय हो चंद्र घंटा 
ब्रह्म बोले हमने तुमको दिव्य शक्तियां दी 
काहे शक्ति इन शक्ति को तोड़ नहीं शक्ति 
चली है माँ आकाश मार्ग से कहाँ बताते है 
शक्ति स्वरूपा चंद्रघंटा की महिमा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

पवन वेग से चली भवानी करती हुयी अट्ठास
क्रोध उगलती पहुंच गई माँ महिषासुर के पास 
नेत्र लाल विकराल बन गई असुरो की वो काल 
सारे ही ब्रह्माण्ड में जैसे मच गया था भूचाल
एक तरफ से असुर लड़ रहे एक तरफ माता 
माँ के आगे कोई असुर भी ठहर नहीं पाता 
घमासान मच गया स्वर्ग में युद्ध हुआ भारी 
काट रही है असुरो को माता मार के किलकारी 
महिषासुर का अंत करिश्मा अब बतलाते है 
शक्ति स्वरूपा चंद्रघंटा की महिमा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान
हुए देव भय मुक्त कर रहे माँ की जय जयकार 
फिर से इंद्र देव को स्वर्ग लोक का मिल गया था उपहार 
तब से ही माँ चंद्रघंटा को पूज रहा संसार 
असुर विनाशक की जय बोलो मिल के शास्त्रों बार 
नवरातों का दिन है तीसरा माँ चंद्रघंटा का 
जग जननी जग कल्याणी माता जगदम्बा का 
श्रद्धा भाव से जो भी माँ का वंदन करता है 
धन वैभव धन धान्य से उसका आंगन भरता है 
कर के नमन वंदन हम माँ को शीश नवाते गए 
शक्ति स्वरूपा चंद्रघंटा की महिमा गाते है हम कथा सुनाते है 
सब सुनो लगा के ध्यान चंद्रघंटा का गुणगान 
ये कथा है बड़ी महान कष्टों का करे निदान

माँ चंद्रघंटा की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Katha Maa Chandraghanta ki Lyrics in English)

Ham chandraghanṭaa maiyaa kii tumako kathaa sunaate hai 
Paavan kathaa sunaataa huun huun 
Shakti svarup chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Navaraato kii tiisare din kaa saar bataate hai 
Paavan kathaa sunaataa huun huun 
Shakti svarup chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaan

Chandraghanṭaa kii kathaa sunaauu suno lagaa ke dhyaana 
Dhan vaibhav sukh dene vaalii maan kii hai pahachaana 
Tiije  din hai navaraaton kaa chandraghanṭaa ke naama 
Puujaa karake maan ke ruup kaa ban jaae sab kaama 
Ruup salonaa sundar maan kaa chhavi badii pyaarii 
Mahak rahii hai maan ke naam se jag kii phulavaarii 
Chaand ke jaise mukhadaa chamake ruup chandr badanii
Jay ho tumhaarii chandraghanṭaa maan jay ho jag jananii 
Dayaa karo sukhadev pe maataa shiish jhukaate hai 
Ham chandraghanṭaa maiyaa kii paavan gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

Shobhit hai maan ke haatho men gadaa dhanush talavaara 
Uṭhaa ke trishuul kar rahii hai dushṭo kaa samhaara 
Ardh chandr ghanṭe kaa maan ke shiish pe hai aakaar
Bhakto kii hit ke khaatir maan rahatii hai taiyaara 
Puujaa kar ke aaratii gaake maan ko rijhaate hai 
Duudh bane vyanjan se maan ko bhog lagaate hai 
Charaṇon men arpit karate hai pushp chamelii kaa 
Ruup nihaare bhakt ye saare ambe devii kaa 
Dhyaan lagaa ke suno kathaa ham aage badhaate hai 
Mai kathaa sunaataa huun
Shakti svarup chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai 
Mai kathaa sunaate gae 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

Svarg lok men jab asuro kaa badhane lagaa aatanka 
Saare the aatankit unase ṛshi muni owr santa 
Mahishaasur ke aage chale naa devataaon kaa jora 
Indr dev bhii usake aage pad jaate kamajora 
Traahi traahi mach gaii thii svarg men machii thii bhaagam bhaaga 
Bhaag rahe thii jaan bachaa ke raaj paaṭ sab tyaag  
Sankaṭ men the praaṇ devo ke suujhe nahiin upaae 
Kisii tarah se mahishaasur se chhuṭakaaraa mil jaae 
Phir kyaa karate hai sab mil kar ke vahii bataate hai 
Shakti svaruupaa chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

Sabhii devataa milakar ke brahmaa ke paas gae 
Brahmaa jii hii madad karenge le kar aas gae 
Brahmaa vishṇu mahesh tiino krodh men aate hai 
Mahishaashur kaa traas devataa jab batalaate hai 
Mahishaasur se svarg lok men jiinaa huaa muhaala 
Koii upaae bataao bhagavan hamen turant tatkaala 
Brahmaa vishṇu mahesh ke mukh se uurjaa huyii utpanna 
Svarg dhaaraa paataal men saare hone lagii kampana 
Uurjaa se utpann huyii maan ham saty bataate hai 
Shakti svaruupaa chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

Shankar trishuul diyaa vishṇu ne chakkr diyaa 
Devataraaj dhany suury ne apanaa tej diyaa 
Suury dev ne tej owr talavaar diyaa unako 
Devo ne bhii shaashtro kaa upahaar diyaa unako 
Naam kaaran phir sabhii ne mil karake unakaa 
Sabane bolaa jay ho tumhaarii jay ho chandr ghanṭaa 
Brahm bole hamane tumako divy shaktiyaan dii 
Kaahe shakti in shakti ko tod nahiin shakti 
Chalii hai maan aakaash maarg se kahaan bataate hai 
Shakti svaruupaa chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

Pavan veg se chalii bhavaanii karatii huyii aṭṭhaas
Krodh ugalatii pahunch gaii maan mahishaasur ke paasa 
Netr laal vikaraal ban gaii asuro kii vo kaala 
Saare hii brahmaaṇḍ men jaise mach gayaa thaa bhuuchaal
Ek taraph se asur lad rahe ek taraph maataa 
Maan ke aage koii asur bhii ṭhahar nahiin paataa 
Ghamaasaan mach gayaa svarg men yuddh huaa bhaarii 
Kaaṭ rahii hai asuro ko maataa maar ke kilakaarii 
Mahishaasur kaa amt karishmaa ab batalaate hai 
Shakti svaruupaa chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaan
Hue dev bhay mukt kar rahe maan kii jay jayakaara 
Phir se indr dev ko svarg lok kaa mil gayaa thaa upahaara 
Tab se hii maan chandraghanṭaa ko puuj rahaa samsaara 
Asur vinaashak kii jay bolo mil ke shaastron baara 
Navaraaton kaa din hai tiisaraa maan chandraghanṭaa kaa 
Jag jananii jag kalyaaṇii maataa jagadambaa kaa 
Shraddhaa bhaav se jo bhii maan kaa vandan karataa hai 
Dhan vaibhav dhan dhaany se usakaa aangan bharataa hai 
Kar ke naman vandan ham maan ko shiish navaate gae 
Shakti svaruupaa chandraghanṭaa kii mahimaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Sab suno lagaa ke dhyaan chandraghanṭaa kaa guṇagaana 
Ye kathaa hai badii mahaan kashṭon kaa kare nidaana

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala