Current Date: 25 Feb, 2024
Sabke Ram APP

माँ कात्यायनी की कथा (Maa Katyayani ki katha) - Rakesh Kala


माँ कात्यायनी की कथा लिरिक्स हिंदी में (Maa Katyayani ki katha Lyrics in Hindi)

हम कात्यायनी माता की पावन कथा सुनाते है 
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
कात्यायनी क्यों रूप बनाया हम समझाते है भक्तो हम समझाते है 
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा

कैसे नाम पड़ा कात्यायनी आदि शक्ति माँ का 
कैसे छटवा नवराता है माँ जगदम्बा का 
कैसे ऋषि राज कात्यान कहाये थे 
पुत्री रूप में कैसे माँ दुर्गा जी को पाए थे 
दुर्गा माँ की करी तपस्या कात्यान ऋषि राज 
सर्दी गर्मी आंधी वर्षा सहते हुए दिन रात 
जाने कितने वर्ष बीत गए तप करते करते 
कड़ी धुप और सर्दी आंधी सब सहते सहते 
मिला तपस्या का फल उनको क्या बतलालते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा

घोर तपस्या कात्यान की बज देखि माँ ने 
देनी की वरदान ऋषि को वर सोची माँ ने 
प्रगट हुयी ऋषि राज के आगे और कहा उनसे 
वर मांगो ऋषि राज बहुत प्रसन्न हूँ मै तुमसे 
जो चाहे वो मांग लो हमसे मुँह मांगा वरदान 
बना चुके हो मेरे ह्रदय में तुम उत्तम स्थान 
हाथ जोड़ के कात्यान बोले इतनी है इच्छा 
पुत्री रूप में तुमको मांगू दे दो ये भिक्षा 
क्या बोली माँ ऋषि राज से वो समझाते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा    

मुस्का कर के माता बोली वचन निभाऊंगी 
यथा शीघ्र ही आपके घर बन पुत्री आउंगी 
मुँह मांगा वर पा के ऋषि जी मन में हुए निहाल 
वन से चल के आ जाते है आश्रम में तकाल
पुत्री रूप में माँ ने उनके घर में जन्म लिया 
वचन दिया था उन्हें जो माँ ने उसको पूर्ण किया 
कात्याना की पुत्री का कात्यायनी पड़ा नाम 
सूरज जैसे चम चम माँ का चमक रहा मुखड़ा 
आश्रम की ही माँ का पालन हुआ वो बतलाते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा    

आश्विन मास कृष्ण पक्ष दिन रहा चतुर्थी का 
जन्म हुआ जब कात्यान के आँगन में पुत्री का 
ऋषि राज कात्यान पुत्री पूजन करते थे 
प्रातः संध्या रोज नियम से वंदन करते थे 
उसी काल उतपन्न हुआ था महिषासुर बलवान 
महिषासुर से सारे देवता रहते थे परेशान
सब के सब थे चिंतित उसका कैसे होगा अंत 
सुर नर मुनि सब आतंकित थे भी में थे अत्यंत 
उसके आगे क्या होता है वो समझाते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा    

इसीलिए तो जन्म लिया था कात्यायनी माँ ने 
महिषासुर का वध करना था कात्यायनी माँ को
महिषासुर का माँ कात्यायनी से युद्ध हुआ घमासान 
थरया ब्रह्माण्ड था सारा असुर हुआ हैरान
युद्ध विलक्षण स्वर्ग लोक में वर्षो तक चला 
महिषासुर का अंत हो गया वो परलोक चला
महिषाषुर के मरते ही भय हीं हुआ सुरलोक 
हर्षित सारे देव हो गए दूर हुआ हर शोक 
ऐसी शक्ति शाली माँ का वर्णन गाते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा    

नवरातों में नौ रूपों में विचरण करती माँ 
अलग अलग रूपों में सबके दुखड़े हरती माँ 
कात्यायनी माँ अपने भक्तो के कष्ट भगाती है 
संकट हर के भक्तो के घर में खुशियां लाती है 
शांत स्वाभव सरल ह्रदय है कात्यायनी माँ का 
आदि शक्ति जग जननी माँ जग जगदम्बा का 
नौ रूपों में जगदम्बा का दर्शन होता है 
माँ दुर्गा का हर घर घर में पूजन होता है 
हाथ जोड़ सुखदेव चरण में शीश झुकाते है
छठवे नवरातों का हम वृतांत बताते है हम कथा सुनाते 
जय जय जय दुर्गा माँ जय जय कात्यायनी माँ 
जय जग जननी जय मै जय जय माँ जगदम्बा

माँ कात्यायनी की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Maa Katyayani ki katha Lyrics in English)

Ham kaatyaayanii maataa kii paavan kathaa sunaate hai 
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Kaatyaayanii kyon ruup banaayaa ham samajhaate hai bhakto ham samajhaate hai 
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa

Kaise naam padaa kaatyaayanii aadi shakti maan kaa 
Kaise chhaṭavaa navaraataa hai maan jagadambaa kaa 
Kaise ṛshi raaj kaatyaan kahaaye the 
Putrii ruup men kaise maan durgaa jii ko paae the 
Durgaa maan kii karii tapasyaa kaatyaan ṛshi raaja 
Sardii garmii aandhii varshaa sahate hue din raata 
Jaane kitane varsh biit gae tap karate karate 
Kadii dhup owr sardii aandhii sab sahate sahate 
Milaa tapasyaa kaa phal unako kyaa batalaalate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa

 Ghor tapasyaa kaatyaan kii baj dekhi maan ne 
Denii kii varadaan ṛshi ko var sochii maan ne 
Pragaṭ huyii ṛshi raaj ke aage owr kahaa unase 
Var maango ṛshi raaj bahut prasann huun mai tumase 
Jo chaahe vo maang lo hamase munh maangaa varadaana 
Banaa chuke ho mere hraday men tum uttam sthaana 
Haath jod ke kaatyaan bole itanii hai ichchhaa 
Putrii ruup men tumako maanguu de do ye bhikshaa 
Kyaa bolii maan ṛshi raaj se vo samajhaate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa    

Muskaa kar ke maataa bolii vachan nibhaauungii 
Yathaa shiighr hii aapake ghar ban putrii aaungii 
Munh maangaa var paa ke ṛshi jii man men hue nihaala 
Van se chal ke aa jaate hai aashram men takaal
Putrii ruup men maan ne unake ghar men janm liyaa 
Vachan diyaa thaa unhen jo maan ne usako puurṇ kiyaa 
Kaatyaanaa kii putrii kaa kaatyaayanii padaa naama 
Suuraj jaise cham cham maan kaa chamak rahaa mukhadaa 
Aashram kii hii maan kaa paalan huaa vo batalaate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa 

Aashvin maas kṛshṇ paksh din rahaa chaturthii kaa 
Janm huaa jab kaatyaan ke aangan men putrii kaa 
Ṛshi raaj kaatyaan putrii puujan karate the 
Praatah sandhyaa roj niyam se vandan karate the 
Usii kaal utapann huaa thaa mahishaasur balavaana 
Mahishaasur se saare devataa rahate the pareshaan
Sab ke sab the chintit usakaa kaise hogaa amta 
Sur nar muni sab aatankit the bhii men the atyanta 
Usake aage kyaa hotaa hai vo samajhaate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa    

Isiilie to janm liyaa thaa kaatyaayanii maan ne 
Mahishaasur kaa vadh karanaa thaa kaatyaayanii maan ko
Mahishaasur kaa maan kaatyaayanii se yuddh huaa ghamaasaana 
Tharayaa brahmaaṇḍ thaa saaraa asur huaa hairaan
Yuddh vilakshaṇ svarg lok men varsho tak chalaa 
Mahishaasur kaa amt ho gayaa vo paralok chalaa
Mahishaashur ke marate hii bhay hiin huaa suraloka 
Harshit saare dev ho gae duur huaa har shoka 
Aisii shakti shaalii maan kaa varṇan gaate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa    

Navaraaton men now ruupon men vicharaṇ karatii maan 
Alag alag ruupon men sabake dukhade haratii maan 
Kaatyaayanii maan apane bhakto ke kashṭ bhagaatii hai 
Sankaṭ har ke bhakto ke ghar men khushiyaan laatii hai 
Shaant svaabhav saral hraday hai kaatyaayanii maan kaa 
Aadi shakti jag jananii maan jag jagadambaa kaa 
Now ruupon men jagadambaa kaa darshan hotaa hai 
Maan durgaa kaa har ghar ghar men puujan hotaa hai 
Haath jod sukhadev charaṇ men shiish jhukaate hai
Chhaṭhave navaraaton kaa ham vṛtaant bataate hai ham kathaa sunaate 
Jay jay jay durgaa maan jay jay kaatyaayanii maan 
Jay jag jananii jay mai jay jay maan jagadambaa

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala