Current Date: 23 May, 2024
Sabke Ram APP

माँ कुष्मांडा की कथा (Maa Kushmanda Katha) - Rakesh Kala


माँ कुष्मांडा की कथा लिरिक्स हिंदी में (Maa Kushmanda Katha Lyrics in Hindi)

हम नवरातों के चौथे दिन की कथा सुनाते है 
पावन कथा सुनाते है 
माँ कुष्मांडा जी का मैं वृतांत बताते है 
हम कथा सुनाते है 
कैसे नाम पड़ा कुष्मांडा ये समझाते है 
हम नवरातों के चौथे दिन की कथा सुनाते है 
पावन कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

अति कोमल है ह्रदय माँ का मनभावन है रूप 
भक्तो के खातिर हो जाती है भक्तो के अनुरूप
नवरातो का चौथा दिन है कुष्मांडा के नाम 
पूजा करे जो कुष्मांडा की बनेंगे उसके काम
वेदो ने उपनिषदों ने भी माँ का किया बखान 
सबसे उत्तम सबसे पावन कुष्मांडा का नाम  
ध्यान लगा के कथा को सुनना कथा है हितकारी 
कष्ट कलेश मुसीबत घर से मिट जाए सारी 
अनुपम दिव्य सलोना माँ का रूप दिखाते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

हल्की मंद हंसी से माँ ने  ऐसा कर डाला 
कुष्मांडा माता जी ने ब्रह्माण्ड बना डाला 
इसीलिए कुष्मांडा नाम से अभिहित किया गया 
तभी से नाम कुष्मांडा घोषित किया गया 
सृष्टि नहीं थी अन्धकार था चारो तरफ छाया 
इसी कुष्मांडा माँ ने प्रकाश था फैलाया 
अपने इस्त हास्य से ब्रह्माण्ड की रचना की 
कुष्मांडा माँ की ये पहली रचना थी
इसके आगे भक्तो हम कथा बढ़ाते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

इसीलिए उस माँ का पड़ा था आदि स्वरूपा  नाम 
आदि शक्ति माँ आदि भवानी कुष्मांडा का नाम 
अष्ट भुजा वाली ये माता रहती सिंह सवार 
अमृत कलश गदा चक्र माला हाथो के शृंगार
सभी सिद्धियों और निद्धियों पे  माँ का है अधिकार 
दिव्य शक्तियां ब्रह्म लोक की माँ को रही सवार 
कुम्हड़े की बलि प्रिय है माँ को कहते है जिसे कुष्मांड 
कुष्मांडा माता से प्रकाशित है सारा ब्रह्माण्ड 
हाथ जोड़ माँ कुष्मांडा की महिमा गाते है पावन महिमा गाते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान 

सूर्य मंडल के सूर्य लोक में रहने की क्षमता है 
शक्ति स्वरूपा के अंदर हर समता विसमता है
तेज सूर्य का दमक रहा है माँ के मुखड़े पर 
सौर्य मंडल की आभा चमके माँ के मुखड़े पर 
दसों दिशाएँ आलोकित  है माँ के ही तेज से 
प्रकाशित ब्रह्माण्ड है सारा माँ के तेज से
उतना ही कम होगा इनका जितना करूँ बखान 
कोई नहीं है दूजा माँ के जैसा कही बलवान 
माँ से ही ब्रह्माण्ड की है पहचान बताते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

नवरातों के चौथे दिन पूजा करे इनकी 
धन वैभव सब मिलता है इच्छा पूरी हो मन की 
रोग शोक का नाश हो जाता बढ़े आयु यश बल 
पूजा करे जो श्रद्धा भाव से हो कर के निश्छल 
ड़ी सी ही सेवा भाव से माँ होती प्रसन्न 
द्रव्य और धन धान्य से उसका भर देती आंगन 
रहे आरोगय हमेशा ही उस सेवक का परिवार 
माँ के सेवको का रहता है खुशियों पे अधिकार 
संशय नहीं ज़रा भी इसमें सत्य बताते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

जिसके सर पे हाथ है माँ का वो है बड़ा बलवान 
जहाँ भी जाता है पाता है वो उत्तम स्थान 
कुष्मांडा माता की जिस पर कृपा होती है 
उसके घर में ख़ुशी की हर पल वर्षा होती है 
रक्षा करती है स्वयं भक्त की माता ये हर पल
रखती लाज हमेसा भक्त की  देती उत्तम फल 
नवरातों के चौथे रोज जो करता है इसका ध्यान
उसको समझती है ये माता अपनी ही संतान 
यही है माँ कुष्मांडा की पहचान बताते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

हाथ जोड़ के सारे बोलो कुष्मांडा की जय 
जहाँ भी जाओगे पाओगे अपनी वही विजय 
रक्षा करेगी कुष्मांडा माँ रहेगी हर पल साथ 
झूठ नहीं है उसमे तनिक भी है ये सच्ची बात 
कुष्मांडा माता को जिसने मन में बसाया है 
जग में ऊंची पदवी ऊँचा नाम कमाया है 
सरल स्वभाव है कुष्मांडा का सरल ही मिलती है 
करती क्षमा हमेसा है गलती नहीं गिनती है 
रखो हाथ सुखदेव के सिर पे माँ शीश झुकाते है 
नवरातों के चौथे दिन की गाथा गाते है हम कथा सुनाते है 
करो कुष्मांडा माँ का ध्यान हो जायेगा कल्याण 
मिले मुँह मांगा वरदान करो कुष्मांडा माँ का ध्यान

माँ कुष्मांडा की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Maa Kushmanda Katha Lyrics in English)

Ham navaraaton ke chowthe din kii kathaa sunaate hai 
Paavan kathaa sunaate hai 
Maan kushmaanḍaa jii kaa main vṛtaant bataate hai 
Ham kathaa sunaate hai 
Kaise naam padaa kushmaanḍaa ye samajhaate hai 
Ham navaraaton ke chowthe din kii kathaa sunaate hai 
Paavan kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan

Ati komal hai hraday maan kaa manabhaavan hai ruupa 
Bhakto ke khaatir ho jaatii hai bhakto ke anuruup
Navaraato kaa chowthaa din hai kushmaanḍaa ke naama 
Puujaa kare jo kushmaanḍaa kii banenge usake kaam
Vedo ne upanishadon ne bhii maan kaa kiyaa bakhaana 
Sabase uttam sabase paavan kushmaanḍaa kaa naam  
Dhyaan lagaa ke kathaa ko sunanaa kathaa hai hitakaarii 
Kashṭ kalesh musiibat ghar se miṭ jaae saarii 
Anupam divy salonaa maan kaa ruup dikhaate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana

Halkii mand hamsii se maan ne  aisaa kar ḍaalaa 
Kushmaanḍaa maataa jii ne brahmaaṇḍ banaa ḍaalaa 
Isiilie kushmaanḍaa naam se abhihit kiyaa gayaa 
Tabhii se naam kushmaanḍaa ghoshit kiyaa gayaa 
Sṛshṭi nahiin thii andhakaar thaa chaaro taraph chhaayaa 
Isii kushmaanḍaa maan ne prakaash thaa phailaayaa 
Apane ist haasy se brahmaaṇḍ kii rachanaa kii 
Kushmaanḍaa maan kii ye pahalii rachanaa thii
Isake aage bhakto ham kathaa badhaate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana

Isiilie us maan kaa padaa thaa aadi svaruupaa  naama 
Aadi shakti maan aadi bhavaanii kushmaanḍaa kaa naama 
Ashṭ bhujaa vaalii ye maataa rahatii sinh savaara 
Amṛt kalash gadaa chakr maalaa haatho ke shṛngaar
Sabhii siddhiyon owr niddhiyon pe  maan kaa hai adhikaara 
Divy shaktiyaan brahm lok kii maan ko rahii savaara 
Kumhade kii bali priy hai maan ko kahate hai jise kushmaanḍa 
Kushmaanḍaa maataa se prakaashit hai saaraa brahmaaṇḍa 
Haath jod maan kushmaanḍaa kii mahimaa gaate hai paavan mahimaa gaate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana 

Suury manḍal ke suury lok men rahane kii kshamataa hai 
Shakti svaruupaa ke amdar har samataa visamataa hai
Tej suury kaa damak rahaa hai maan ke mukhade para 
Sowry manḍal kii aabhaa chamake maan ke mukhade para 
Dason dishaaen aalokit  hai maan ke hii tej se 
Prakaashit brahmaaṇḍ hai saaraa maan ke tej se
Utanaa hii kam hogaa inakaa jitanaa karuun bakhaana 
Koii nahiin hai duujaa maan ke jaisaa kahii balavaana 
Maan se hii brahmaaṇḍ kii hai pahachaan bataate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana

Navaraaton ke chowthe din puujaa kare inakii 
Dhan vaibhav sab milataa hai ichchhaa puurii ho man kii 
Rog shok kaa naash ho jaataa badhe aayu yash bala 
Puujaa kare jo shraddhaa bhaav se ho kar ke nishchhala 
Dii sii hii sevaa bhaav se maan hotii prasanna 
Dravy owr dhan dhaany se usakaa bhar detii aangana 
Rahe aarogay hameshaa hii us sevak kaa parivaara 
Maan ke sevako kaa rahataa hai khushiyon pe adhikaara 
Samshay nahiin zaraa bhii isamen saty bataate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan

Jisake sar pe haath hai maan kaa vo hai badaa balavaana 
Jahaan bhii jaataa hai paataa hai vo uttam sthaana 
Kushmaanḍaa maataa kii jis par kṛpaa hotii hai 
Usake ghar men khaushii kii har pal varshaa hotii hai 
Rakshaa karatii hai svayam bhakt kii maataa ye har pal
Rakhatii laaj hamesaa bhakt kii  detii uttam phala 
Navaraaton ke chowthe roj jo karataa hai isakaa dhyaan
Usako samajhatii hai ye maataa apanii hii santaana 
Yahii hai maan kushmaanḍaa kii pahachaan bataate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana

Haath jod ke saare bolo kushmaanḍaa kii jaya 
Jahaan bhii jaaoge paaoge apanii vahii vijaya 
Rakshaa karegii kushmaanḍaa maan rahegii har pal saatha 
Jhuuṭh nahiin hai usame tanik bhii hai ye sachchii baata 
Kushmaanḍaa maataa ko jisane man men basaayaa hai 
Jag men uunchii padavii uunchaa naam kamaayaa hai 
Saral svabhaav hai kushmaanḍaa kaa saral hii milatii hai 
Karatii kshamaa hamesaa hai galatii nahiin ginatii hai 
Rakho haath sukhadev ke sir pe maan shiish jhukaate hai 
Navaraaton ke chowthe din kii gaathaa gaate hai ham kathaa sunaate hai 
Karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaan ho jaayegaa kalyaaṇa 
Mile munh maangaa varadaan karo kushmaanḍaa maan kaa dhyaana

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala