Current Date: 22 Apr, 2024
Sabke Ram APP

मरघट वाले हनुमान जी की महिमा (Marghat Wale Hanuman Ji Ki Mahima) - Avinash Karn


मरघट वाले हनुमान जी की महिमा लिरिक्स हिंदी में (Marghat Wale Hanuman Ji Ki Mahima Lyrics in Hindi)

आओ भक्तो तुम्हे सुनाये महिमा मंगलवार की
पवन पुत्र बजरंग बलि श्री राम के सेवादार की


सातो दिन है पावन है लेकिन मंगल अति शुभकारी है,
विघना विनाशक कष्ट निवारक मंगल मंगल कारी है,
मंगल दिन है हनुमान का हनुमान सर्वोत्तम है,
जिनके ह्रदय में क्षड़ प्रति क्षण मर्यादा परुषोत्तम है

हनुमान की शरण जो आता मंगल मई हो जाता है,
कष्ट कलेश मिटे जीवन सुख वैभव वो पाता है सुखमय हो जाता है,
मंगल मई हनुमान की पावन कथा मैं सुनाता हूँ,
हनुमान के ह्रदय का उत्तम रूपम मैं दिखता हूँ

दिल्ली में एक धाम है पावन वीर बलि हनुमान का,
कष्ट निवारण करते है हनुमंत हर इंसान का,
सिद्ध पीठ है हनुमान की सिद्ध बलि कहलाते है,
वह पे आने वालो के कष्ट सभी मिट जाते है

मरघट वाले बाबा जी का किस्सा एक सुनाता हूँ,
भक्त एक था बाबा जी, उसके घर ले जाता हूँ,
बजरंगी का नाम भक्त का, दिल का भोला भाला था,
बजरंगी बजरंग बली की, सेवा करने वाला था

मंगल वार का व्रत रखता था, प्रीत दिन मंदिर जाता था,
भक्ति मे डूबा रहता था, भजन कीर्तन गाता था,
छोटा सा परिवार था उसका, पत्नी पुत्र और माता,
था अपने परिवार से या फिर, मरघट वाले से नाता था

बजरंगी का बालक भक्तों, सारे घर का तारा था,
सबके दिल की धड़कन था वो, सबका राज दुलारा था,
उमर अभी थी बाली उसकी, वो स्कुल मे पढ़ता था,
घर मे वो अक्सर ही अपनी, दादी के संग रहता था

बेटे का था नाम राम, पत्नी का राजकुमारी था,
पत्नी देखती घर के काम का, उसका पति पुजारी था,
बेटा पढ़ने मे आगे था, अच्छे नंबर लाता था,
घर मे भी पढ़ता रहता था, कही ना आता जाता था

बजरंगी प्रति दिन प्रातः, यमुना स्नान को जाता था,
करके वो स्नान नियम से, प्रति दिन मंदिर जाता था,
छुट्टी थी स्कूल मे इकदिन,  बहुत बड़ा त्यौहार था,
हनुमान जी का दिन था वो उस दिन मंगलवार था

यमुना जी मे डुबकी लगाने, बजरंगी संग राम गया,
प्रातः काल पिता के संग मे, करने वो स्नान गया,
दोनों उतर गये यमुना मे, दोनों साथ नहाने लगे,
यमुना जी के पावन जल मे, दोनों डुबकी लगाने लगे

तेज धार थी यमुना जी की, बहुत अधिक गहराई थी,
फिसल गया था पाव राम का, मिट्टी में चिकनयी थी,
बजरंगी कुछ समझ ना पाया, डूब गया बेटा उसका,
आगे बढ़ा बचाने लेकिन, छूट गया बेटा उसका

राम राम कहके चिल्लाये, यमुना के तट बजरंगी,
कोई नहीं था आस पास में, किसे बुलाये बजरंगी,
छाती पिटे माया फोड़े, हालत हो गयी पागल सी,
रो रो आंसू सुख गये, आँखे हो गयी काजल सी

करुण पुकारे बजरंगी की, मंदिर से आ टकराई,
करुणामई मरघट वाले की, देखो भक्तो करुणाई,
करुणामई बजरंग बली का, चमत्कार दिखलाते है,
भेष बनाके मलाही का, यमुना के तट आते है

मलाही के भेष में बाबा, नाव चलाते आते है,
बजरंगी को रोते देखके, तुंरत उतर के आते है,
पूछ रहे है बजरंगी से, क्या हुआ क्यों तुम रोते हो,
यमुना मईया बह रही फिर क्यों, आंसुओ से मुँह धोते हो

मार दहाड़े छाती पीटे, बजरंगी कुछ बोले ना,
रोता जाये रोता जाये, भेद वो मन के खोले ना,
मल्हा बन बाबा बोले, रोने का कारण बोला,
बहते आंसुओ से मुँह अपना, धोने का कारण बोला

मल्लहा के कांधे पे सिर, रखके रोया बजरंगी,
मेरा राम डुबके मर गया, कहके रोया बजरंगी,
मल्लहा यूँ बोला हँसके, राम को कौन डुबाएगा,
पत्थर तेरे राम नाम के, राम को कोण डुबाएगा

बाबा रूपी मल्लहा वो, कूद गया फिर यमुना में,
पल की लगाये देर नहीं थी, कूद गया वो यमुना में,
बड़ी देर तक डूबा रहा ना, मल्लहा बाहर आया,
सोच सोच फिर अनहोनी के, बजरंगी था घबराया

कुछ पल के पश्चात राम को, लेकर निकला मल्लहा,
कंधे ऊपर उसे उठाकर, बाहर निकला मल्लहा,
बाहर लाकर उसे लटाया, धड़कन बंद हो गयी थी,
प्राणहिन हो गया था बालक, धड़कन बंद हो गयी थी

मरा देख अपने बेटे को, बजरंगी चिल्लाता है,
क्यों लाया मैं साथ राम को, बजरंगी पछताता है,
अगर बचा ना मेरा बेटा, कसम है मरघट वाले की,
प्राण त्याग दूंगा मैं अपने, कसम है मरघट वाले की

मरघट वाला खड़ा सामने, भेष धार मल्लाहे का,
देख रहा वो नब्ज राम की, भेष धार मल्लाहे का,
प्राण हीन हो चुका राम था, मल्लाहे ने जान लिया,
बजरंगी ने लाल को अपने, मरा हुआ ही मान लिया

प्रश्न खड़ा था राम नाम का, मरघट वाले के आगे,
बजरंगी चला प्राण त्यागने, मरघट वाले के आगे,
करुणामयी हनुमान के होते, भक्त हार जाता कैसे,
राम और हनुमान के होते, भक्त हार जाता कैसे

मरघट वाले बाबा जी ने, चमत्कार दिखलाया है,
बजरंगी के बेटे को फिर, हाथ में तुरंत उठाया है,
पलट के बजरंगी के लाल को, उसकी पीठ दबाते है,
निकलते पानी उसके पेट का, चमत्कार दिखलाते है

बजरंगी बेहाल खड़ा था, मरघट वाले से आगे,
नीचे उसका लाल पड़ा था, मरघट वाले के आगे,
चल गयी धड़कन खुल गयी आंखे, धीरे धीरे राम की,
बोलो मरघट वाले की जय, बोलो जय श्री राम की

उठके बैठ गया वो बेटा, डूबा था हैरानी में,
बोला मैं तो डूब गया था, यमुना जी के पानी में,
बजरंगी ने गले लगा के, बेटे को बतलाया है,
बन करके भगवान आगये, इन्होने तुझे बचाया है

पिता पुत्र उस मल्लहा के, दोनों पांव चूमते है,
नाम आपका क्या है भाई बारम्बार पूछता है,  
मरघट वाला हसके बोला, तुमको तो मैं जानता हूँ,
भक्त हो तुम मरघट वाले के, भली भांति पहचानता हूँ

पिता पुत्र दोनों फिर वापस, लौट के घर को आते है,
जिन्हे भरोसा है बाबा पर, बाबा साथ निभाते है,
लिखी कथा सुखदेव ने भक्तों, अविनाश कर्ण गाते है,
लिखने में हुयी हो गलती कर जोड़ के शीश नवाते है

आओ भक्तो तुम्हे सुनाये महिमा मंगलवार की
पवन पुत्र बजरंग बलि श्री राम के सेवादार की...

आओ भक्तो तुम्हे सुनाये महिमा मंगलवार की
पवन पुत्र बजरंग बलि श्री राम के सेवादार की

मरघट वाले हनुमान जी की महिमा लिरिक्स अंग्रेजी में (Marghat Wale Hanuman Ji Ki Mahima Lyrics in English)

aao bhakto tumhe sunaaye mahima mangalavaar kee
pavan putr bajarang bali shri ram ke sevaadaar kee


saato din hai paavan hai lekin mangal ati shubhakaari hai,
vighana vinaashak kasht nivaarak mangal mangal kaari hai,
mangal din hai hanuman ka hanuman sarvottam hai,
jinake haraday me kshd prati kshn maryaada parushottam hai

hanuman ki sharan jo aata mangal mi ho jaata hai,
kasht kalesh mite jeevan sukh vaibhav vo paata hai sukhamay ho jaata hai,
mangal mi hanuman ki paavan ktha mainsunaata hoon,
hanuman ke haraday ka uttam roopam maindikhata hoon

dilli me ek dhaam hai paavan veer bali hanuman ka,
kasht nivaaran karate hai hanumant har insaan ka,
siddh peeth hai hanuman ki siddh bali kahalaate hai,
vah pe aane vaalo ke kasht sbhi mit jaate hai

marghat vaale baaba ji ka kissa ek sunaata hoon,
bhakt ek tha baaba ji, usake ghar le jaata hoon,
bajarangi ka naam bhakt ka, dil ka bhola bhaala tha,
bajarangi bajarang bali ki, seva karane vaala thaa

mangal vaar ka vrat rkhata tha, preet din mandir jaata tha,
bhakti me dooba rahata tha, bhajan keertan gaata tha,
chhota sa parivaar tha usaka, patni putr aur maata,
tha apane parivaar se ya phir, marghat vaale se naata thaa

bajarangi ka baalak bhakton, saare ghar ka taara tha,
sabake dil ki dhadakan tha vo, sabaka raaj dulaara tha,
umar abhi thi baali usaki, vo skul me padahata tha,
ghar me vo aksar hi apani, daadi ke sang rahata thaa

bete ka tha naam ram, patni ka raajakumaari tha,
patni dekhati ghar ke kaam ka, usaka pati pujaari tha,
beta padahane me aage tha, achchhe nanbar laata tha,
ghar me bhi padahata rahata tha, kahi na aata jaata thaa

bajarangi prati din praatah, yamuna snaan ko jaata tha,
karake vo snaan niyam se, prati din mandir jaata tha,
chhutti thi skool me ikadin,  bahut bada tyauhaar tha,
hanuman ji ka din tha vo us din mangalavaar thaa

yamuna ji me dubaki lagaane, bajarangi sang ram gaya,
praatah kaal pita ke sang me, karane vo snaan gaya,
donon utar gaye yamuna me, donon saath nahaane lage,
yamuna ji ke paavan jal me, donon dubaki lagaane lage

tej dhaar thi yamuna ji ki, bahut adhik gaharaai thi,
phisal gaya tha paav ram ka, mitti me chikanayi thi,
bajarangi kuchh samjh na paaya, doob gaya beta usaka,
aage badaha bchaane lekin, chhoot gaya beta usakaa

ram ram kahake chillaaye, yamuna ke tat bajarangi,
koi nahi tha aas paas me, kise bulaaye bajarangi,
chhaati pite maaya phode, haalat ho gayi paagal si,
ro ro aansoo sukh gaye, aankhe ho gayi kaajal see

karun pukaare bajarangi ki, mandir se a takaraai,
karunaami marghat vaale ki, dekho bhakto karunaai,
karunaami bajarang bali ka, chamatkaar dikhalaate hai,
bhesh banaake malaahi ka, yamuna ke tat aate hai

malaahi ke bhesh me baaba, naav chalaate aate hai,
bajarangi ko rote dekhake, tunrat utar ke aate hai,
poochh rahe hai bajarangi se, kya hua kyon tum rote ho,
yamuna meeya bah rahi phir kyon, aansuo se munh dhote ho

maar dahaade chhaati peete, bajarangi kuchh bole na,
rota jaaye rota jaaye, bhed vo man ke khole na,
malha ban baaba bole, rone ka kaaran bola,
bahate aansuo se munh apana, dhone ka kaaran bolaa

mallaha ke kaandhe pe sir, rkhake roya bajarangi,
mera ram dubake mar gaya, kahake roya bajarangi,
mallaha yoon bola hansake, ram ko kaun dubaaega,
patthar tere ram naam ke, ram ko kon dubaaegaa

baaba roopi mallaha vo, kood gaya phir yamuna me,
pal ki lagaaye der nahi thi, kood gaya vo yamuna me,
badi der tak dooba raha na, mallaha baahar aaya,
soch soch phir anahoni ke, bajarangi tha ghabaraayaa

kuchh pal ke pashchaat ram ko, lekar nikala mallaha,
kandhe oopar use uthaakar, baahar nikala mallaha,
baahar laakar use lataaya, dhadakan band ho gayi thi,
praanahin ho gaya tha baalak, dhadakan band ho gayi thee

mara dekh apane bete ko, bajarangi chillaata hai,
kyon laaya mainsaath ram ko, bajarangi pchhataata hai,
agar bcha na mera beta, kasam hai marghat vaale ki,
praan tyaag doonga mainapane, kasam hai marghat vaale kee

marghat vaala khada saamane, bhesh dhaar mallaahe ka,
dekh raha vo nabj ram ki, bhesh dhaar mallaahe ka,
praan heen ho chuka ram tha, mallaahe ne jaan liya,
bajarangi ne laal ko apane, mara hua hi maan liyaa

prashn khada tha ram naam ka, marghat vaale ke aage,
bajarangi chala praan tyaagane, marghat vaale ke aage,
karunaamayi hanuman ke hote, bhakt haar jaata kaise,
ram aur hanuman ke hote, bhakt haar jaata kaise

marghat vaale baaba ji ne, chamatkaar dikhalaaya hai,
bajarangi ke bete ko phir, haath me turant uthaaya hai,
palat ke bajarangi ke laal ko, usaki peeth dabaate hai,
nikalate paani usake pet ka, chamatkaar dikhalaate hai

bajarangi behaal khada tha, marghat vaale se aage,
neeche usaka laal pada tha, marghat vaale ke aage,
chal gayi dhadakan khul gayi aankhe, dheere dheere ram ki,
bolo marghat vaale ki jay, bolo jay shri ram kee

uthake baith gaya vo beta, dooba tha hairaani me,
bola mainto doob gaya tha, yamuna ji ke paani me,
bajarangi ne gale laga ke, bete ko batalaaya hai,
ban karake bhagavaan aagaye, inhone tujhe bchaaya hai

pita putr us mallaha ke, donon paanv choomate hai,
naam aapaka kya hai bhaai baarambaar poochhata hai,  
marghat vaala hasake bola, tumako to mainjaanata hoon,
bhakt ho tum marghat vaale ke, bhali bhaanti pahchaanata hoon

pita putr donon phir vaapas, laut ke ghar ko aate hai,
jinhe bharosa hai baaba par, baaba saath nibhaate hai,
likhi ktha sukhadev ne bhakton, avinaash karn gaate hai,
likhane me huyi ho galati kar jod ke sheesh navaate hai

aao bhakto tumhe sunaaye mahima mangalavaar kee
pavan putr bajarang bali shri ram ke sevaadaar ki...

aao bhakto tumhe sunaaye mahima mangalavaar kee
pavan putr bajarang bali shri ram ke sevaadaar kee

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Avinash Karn