Current Date: 27 Sep, 2023
Sabke Ram APP

माता सीता के जन्म की कहानी (Mata Sita K Janam Ki Kahani) - The Lekh


माता सीता के जन्म की कहानी

Goddess Sita: Unknown facts about Maa Sita - InstaAstro

पौराणिक कथाओं के अनुसार माता सीता भगवान जनक को जमीन के नीचे मिली थीं। महर्षि वाल्मीकि जी की रामायण के अनुसार राजा जनक के समय में  एक बार मिथिला राज्य में अकाल पड़ गया। ऋषियों ने राजा जनक से यज्ञ का आयोजन करने के लिए कहा जिससे वर्षा ही और उनका कष्ट दूर हो।

रामायण का सबसे सुन्दर भजन : जन जन के प्रिये राम लखन सिया वन को जाते हैं

यज्ञ की समाप्ति के अवसर पर राजा जनक अपने हाथों से हल लेकर खेत जोत रहे थे तभी उनके हल का नुकीला भाग जिसे सीत कहते हैं किसी कठोर चीज से टकराया और हल वहीं अटक गया।

रुला देने वाला रामायण भजन: हे राम अयोध्या छोड़ कर वन मत जाओ

जब उस स्थान खुदाई हुई तब एक कलश मिला जिसमें एक सुंदर कन्या थी। राजा जनक ने उस कन्या को कलश से बाहर निकाला और उसे अपनी पुत्री के रूप में स्वीकार किया। जनक की पत्नी उस समय निःसंतान थीं इसलिए बेटी को पाकर वो अत्यंत प्रसन्न हुईं।

रविंद्र जैन जी का मनमोहक भजन: मेरे लखन दुलारे बोल कछु बोल

चूंकि हल के उस हिस्से से टकराकर माता सीता मिलीं थीं जिसे सीत कहा जाता है, इसलिए ही उनका नाम सीता रखा गया। वहीं जनक पुत्री के रूप में उन्हें जानकी कहा गया।  

Story of Mother Sita's birth

According to mythology, Mother Sita was found by Lord Janak under the ground. According to Maharishi Valmiki's Ramayana, once during the time of King Janak, there was a famine in the Mithila kingdom. The sages asked King Janak to organize a yagya so that the rain and their suffering would go away.

The most beautiful hymn of Ramayana: Jan Jan Ke Priye Ram Lakhan Siya Van Ko Jaate Hain

On the occasion of the end of the Yajna, King Janak was plowing the field with his hand plow, when the pointed part of his plow called Seet collided with some hard object and the plow got stuck there.

Crying Ramayana Bhajan: Hey Ram Ayodhya Chhodh Ke Van Mat Jao

When the place was excavated, an urn was found in which there was a beautiful girl. King Janak took that girl out of the urn and accepted her as his daughter. Janak's wife was childless at that time, so she was very happy to have a daughter.

Ravindra Jain's beautiful hymn: Mere Lakhan Dulare Bol Kachhu Bol

Since Mother Sita was found by hitting that part of the plow which is called Sita, hence she was named Sita. There she was called Janaki as Janak's daughter.

और भी मनमोहक भजन, आरती, वंदना, चालीसा, स्तुति :-

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - The Lekh