Current Date: 14 Jun, 2024
Sabke Ram APP

पैसा पैसा कैसा पैसा (Paisa Paisa Kaisa Paisa) - Harmahendra Singh Romi


पैसा पैसा कैसा पैसा लिरिक्स हिंदी में (Paisa Paisa Kaisa Paisa Lyrics in Hindi)

पैसा पैसा कैसा पैसा पैसा किसा साथी है,
आती है जिस शान से दौलत उसी शान से जाती है,
पैसा पैसा कैसा पैसा पैसा किसा साथी है


देर नहीं लगदी है खाली होते भरे खजानो को,
भीख मांगते देखा हमने बड़े बड़े धनवानों को,
बंधी ग्रह में रही उम्र बर मैया शाम सलोने की,
राम हुए बनवासी भक्तो जल गई लंका सोने की,
हरिचन्दर जैसे राजा को मरगत तक पहुंचती है,
आती है जिस शान से दौलत उसी शान से जाती है

दौलत एक सुनहरी नागिन ज़हर भरी सौगात है,
चार दिनों की ये है चांदनी फिर तो अँधेरी रात है,
ना कार तुम इस पे भरोसा ये चंचल दीवानी है,
आज यहाँ कल वहां है दौलत ये तो आणि जानी है,
पाप कराती इंसानो से ये बेईमान बनाती है,
आती है जिस शान से दौलत उसी शान से जाती है

प्रभु ने पिया संसार को वेहवव कर्ज समज उपभोग करो,
नर तन इसी लिए है प्रभु से अपना योग करो,
हाथ  जले यु सुखी लकड़ी  केश जले यु हाथ रे,
कंचन सी तेरी काया जल गई कोई ना आया साथ रे,
अपने और पराये रोमी शमशान के साथी है,
आती है जिस शान से दौलत उसी शान से जाती है

पैसा पैसा कैसा पैसा पैसा किसा साथी है,
आती है जिस शान से दौलत उसी शान से जाती है,
पैसा पैसा कैसा पैसा पैसा किसा साथी है

पैसा पैसा कैसा पैसा लिरिक्स अंग्रेजी में (Paisa Paisa Kaisa Paisa Lyrics in English)

paisa paisa kaisa paisa paisa kisa saathi hai,
aati hai jis shaan se daulat usi shaan se jaati hai,
paisa paisa kaisa paisa paisa kisa saathi hai


der nahi lagadi hai khaali hote bhare khajaano ko,
bheekh maangate dekha hamane bade bade dhanavaanon ko,
bandhi grah me rahi umr bar maiya shaam salone ki,
ram hue banavaasi bhakto jal gi lanka sone ki,
harichandar jaise raaja ko maragat tak pahunchati hai,
aati hai jis shaan se daulat usi shaan se jaati hai

daulat ek sunahari naagin zahar bhari saugaat hai,
chaar dinon ki ye hai chaandani phir to andheri raat hai,
na kaar tum is pe bharosa ye chanchal deevaani hai,
aaj yahaan kal vahaan hai daulat ye to aani jaani hai,
paap karaati insaano se ye beeemaan banaati hai,
aati hai jis shaan se daulat usi shaan se jaati hai

prbhu ne piya sansaar ko vehavav karj samaj upbhog karo,
nar tan isi lie hai prbhu se apana yog karo,
haath  jale yu sukhi lakadi  kesh jale yu haath re,
kanchan si teri kaaya jal gi koi na aaya saath re,
apane aur paraaye romi shamshaan ke saathi hai,
aati hai jis shaan se daulat usi shaan se jaati hai

paisa paisa kaisa paisa paisa kisa saathi hai,
aati hai jis shaan se daulat usi shaan se jaati hai,
paisa paisa kaisa paisa paisa kisa saathi hai

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Harmahendra Singh Romi