Current Date: 25 Feb, 2024
Sabke Ram APP

सालासर का दरबार (Salasar Ka Darbar) - Vikas Bagdi


सालासर का दरबार लिरिक्स हिंदी में (Salasar Ka Darbar Lyrics in Hindi)

सालासर में बाबा का जो दरबार न होता,
हम भक्तो का फिर बेडा कभी भी पार न होता,

सालासर में भक्तो की आशाये कौन पुगाता मेहंदीपुर में कष्टों का फिर साया कौन भगाता,
दुःख ही दुःख होता सुख का कोई आधार न होता,
हम भक्तो का फिर बेडा कभी भी पार न होता,

मितली ना कोई मंजिल सब रहते बीच डगर में तूफानों में कोई नइया फस्ती है जैसे भवर में,
वो नइयाँ दुबे जिसका खेवन हार न होता,
हम भक्तो का फिर बेडा कभी भी पार न होता,

सब करते रहते निंदा आपस में इक दूजे की और कोई कभी न कहता के भाई जय बाबा की,
सोनी आपस में किसी का कभी प्यार न होता,
हम भक्तो का फिर बेडा कभी भी पार न होता,

सालासर का दरबार लिरिक्स अंग्रेजी में (Salasar Ka Darbar Lyrics in English)

saalaasar me baaba ka jo darabaar n hota,
ham bhakto ka phir beda kbhi bhi paar n hotaa


saalaasar me bhakto ki aashaaye kaun pugaata mehandeepur me kashton ka phir saaya kaun bhagaata,
duhkh hi duhkh hota sukh ka koi aadhaar n hota,
ham bhakto ka phir beda kbhi bhi paar n hotaa

mitali na koi manjil sab rahate beech dagar me toophaanon me koi niya phasti hai jaise bhavar me,
vo niyaan dube jisaka khevan haar n hota,
ham bhakto ka phir beda kbhi bhi paar n hotaa

sab karate rahate ninda aapas me ik dooje ki aur koi kbhi n kahata ke bhaai jay baaba ki,
ham bhakto ka phir beda kbhi bhi paar n hotaa

saalaasar me baaba ka jo darabaar n hota,
ham bhakto ka phir beda kbhi bhi paar n hotaa

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Vikas Bagdi