Current Date: 25 Feb, 2024
Sabke Ram APP

तीन लोक में बजरंग तुमने भक्ति (Teen Lok Me Bajrang Tumne Bhakti) - Nandu Ji


तीन लोक में बजरंग तुमने भक्ति लिरिक्स हिंदी में (Teen Lok Me Bajrang Tumne Bhakti Lyrics in Hindi)

तिहु लोक मे बजरंग तुमने भक्ति का दीप जलाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया॥
सीता का हरण हुआ तो श्री राम समझ ना पाए,
बन दीन पूछते सबसे, ओर कोन उन्हें समझाए,
जब तुमसे भेंट हुई तो, तुमने संताप मिटाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया ॥


गए सात समुंदर उड़के सोने की लंका जलाये,
सीता को देकर खुशियां वर अजर अमर का पाये,
श्री राम को हाल सुनाकर रावण का पता बताया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया॥

मूर्छित लक्षमण की खातिर संजीवन बुटी लाये,
अहिरावण के फंदे से श्री राम लखन को छुड़ाए,
श्री राम विजय की गाथा, जा अवध भरत को सुनाए,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया

रघुवर के राजतिलक पर है भेंट सबो ने पाई,
हनुमत को कुछ ना मिला तो माता सीता सकुचाई,
दे हार गले का अपना, हनुमत का मान भड़या,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया

माला के हर दाने मे कही राम नजर नही आया,
उपहास हास को सुनकर, सीने को फाड़ दिखाया,
सीने मे राम सिया की,झांकी का दरश दिखाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया

वरदान मिला रघुवर से, कोई तुझसा भक्त ना होगा,
गूंजेगा नाम तुम्हारा, हर युग मे बजेगा डंका,
नंदू मांगे प्रभु भक्ति, भक्ति मे सब है समाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया

तिहु लोक मे बजरंग तुमने भक्ति का दीप जलाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया॥
सीता का हरण हुआ तो श्री राम समझ ना पाए,
बन दीन पूछते सबसे, ओर कोन उन्हें समझाए,
जब तुमसे भेंट हुई तो, तुमने संताप मिटाया,
तेरे रोमरोम मे हनुमत सिया राम का रूप समाया ॥

तीन लोक में बजरंग तुमने भक्ति लिरिक्स अंग्रेजी में (Teen Lok Me Bajrang Tumne Bhakti Lyrics in English)

tihu lok me bajarang tumane bhakti ka deep jalaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa..
seeta ka haran hua to shri ram samjh na paae,
ban deen poochhate sabase, or kon unhen samjhaae,
jab tumase bhent hui to, tumane santaap mitaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaaya ..


ge saat samundar udake sone ki lanka jalaaye,
seeta ko dekar khushiyaan var ajar amar ka paaye,
shri ram ko haal sunaakar raavan ka pata bataaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa..

moorchhit lakshman ki khaatir sanjeevan buti laaye,
ahiraavan ke phande se shri ram lkhan ko chhudaae,
shri ram vijay ki gaatha, ja avdh bharat ko sunaae,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa

rghuvar ke raajatilak par hai bhent sabo ne paai,
hanumat ko kuchh na mila to maata seeta sakuchaai,
de haar gale ka apana, hanumat ka maan bhadaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa

maala ke har daane me kahi ram najar nahi aaya,
upahaas haas ko sunakar, seene ko phaad dikhaaya,
seene me ram siya ki,jhaanki ka darsh dikhaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa

varadaan mila rghuvar se, koi tujhasa bhakt na hoga,
goonjega naam tumhaara, har yug me bajega danka,
nandoo maange prbhu bhakti, bhakti me sab hai samaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa

tihu lok me bajarang tumane bhakti ka deep jalaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaayaa..
seeta ka haran hua to shri ram samjh na paae,
ban deen poochhate sabase, or kon unhen samjhaae,
jab tumase bhent hui to, tumane santaap mitaaya,
tere romarom me hanumat siya ram ka roop samaaya ..

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Nandu Ji