Current Date: 29 Feb, 2024
Sabke Ram APP

विश्वकर्मा जी की कथा (Vishwakarma Ji Ki Katha) - Rakesh Kala


विश्वकर्मा जी की कथा लिरिक्स हिंदी में (Vishwakarma Ji Ki Katha Lyrics in Hindi)

शिल्पकला और वास्तु का वर्णन गाते है
हम वर्णन गाते है
श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
हम कथा सुनाते है
इंद्र पुरी के रचना कार की महिमा गाते है
हम महिमा गाते है
श्री  विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
हम कथा सुनाते है
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान
                     
सृष्टि रचने की खातिर जब ब्रम्हा हुए तैयार
विश्वकर्मा ने आके उठाया उनका आधा भार
सबसे पहले किया गया था मान चित्र तैयार
सृष्टि को रचने में बीते वर्ष थे कई हजार
विश्वकर्मा ने ब्रम्हाजी का हाथ बटाया था
स्वर्ग लोक यमलोक स्वयं हाथो से बनाया था
त्रेता से कलियुग तक जितनी बनी है राजधानी
सब बनाया विश्वकर्मा ने बात है जग जानी
स्वर्ग रचा सतयुग में त्रेतामें लंका बनाते है
हम श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान

रची द्वारिका द्वापर में थी हस्तिनापुर कलियुगी
श्री विश्वकर्मा जी की महिमा दिखती है हर युगमें
श्री कृष्ण ने मित्र सुदामा के चावल खाये थे
तीन मुट्ठी के बदले में तीनो लोक दिलाये थे
जब बात सुदामा नगरी के निर्माण की आयी थी
विश्वकर्मा जी ने ही सुदामा नगरी बनाई थी
जब कभी आयी देवलोक में भव्य निर्माण की बात
तब तब सभी को आयी है श्री विश्वकर्मा की याद
हर युग में श्री विश्वकर्मा जी पूजे जाते है
हम श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनातेहै
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान

शिल्प्कार के रुप में उनको मिला उच्च स्थान
विश्वकर्मा से बन गए वो विश्वकर्मा भगवान
एक पौराणिक कथा है उनकी जो है बड़ी प्राचीन
पति पत्नी दोनों साथ में रहते वो थे बड़े गरीब
किसी किसी दिन भोजन उनको होता नहीं नसीब
दिन भर मेहनत करने के बदले इतना ही हो ताप्राप्त
पति पत्नी का भोजन उसमे होता नहीं पर्याप्त
ऊपर से औलाद के लिए नी रबहाते है
हम श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान
                  
पुत्र प्राप्ति के लिए दोनों गए संतो के पास
लेकिन वो संतो के दर से लोटे हो के निराश
मन में व्यथित बहुत थे दोनों चिंता रही थी खाय
उनकी इस फूटी किस्मतका मिलता नहीं उपाय
तभी एक ब्राह्मण आकर रथकार से कहताहै
क्यों भाई तू दुःख में हर दम डूबा रहता है
विश्वकर्मा भगवान शरण में दोनों जाओ तुम
सारी समस्या अपनी जाके उन्हें सुनाओ तुम
विश्वकर्मा भगवान सभी के कष्ट मिटाते है
हम श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान

अमावस्या को व्रत खाना तुम पुरे विधि विधान
सारे मनोरथ पूर्ण करेंगे विश्वकर्मा भगवान
आयी तिथि जब अमावस्या की व्रत करते है दोनों
विश्वकर्मा भगवान की पूजा करते है दोनों
धीरे धीरे सारे मनोरथपूर्ण हो जाते है
निर्धनता से भरे बुरे दिन दूर हो जाते है
पुत्र रतन धन प्राप्त हो गया हो गए वो खुशहाल
भर गया घर धन धान्य से उनका हो गये मालामाल
विश्वकर्मा भगवान की वो जयकार लगाते है
हम श्री विश्वकर्मा जी की पावन कथा सुनाते है
तुम शिल्प कला की खान हे विश्वकर्मा भगवान् 
हे विश्वकर्मा भगवान् तुम शिल्प कला की खान

विश्वकर्मा जी की कथा लिरिक्स अंग्रेजी में (Vishwakarma Ji Ki Katha Lyrics in English)

Shilpakalaa owr vaastu kaa varṇan gaate hai
Ham varṇan gaate hai
Shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Ham kathaa sunaate hai
Indr purii ke rachanaa kaar kii mahimaa gaate hai
Ham mahimaa gaate hai
Shrii  vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Ham kathaa sunaate hai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaan
                     
Sṛshṭi rachane kii khaatir jab bramhaa hue taiyaar
Vishvakarmaa ne aake uṭhaayaa unakaa aadhaa bhaar
Sabase pahale kiyaa gayaa thaa maan chitr taiyaar
Sṛshṭi ko rachane men biite varsh the kaii hajaar
Vishvakarmaa ne bramhaajii kaa haath baṭaayaa thaa
Svarg lok yamalok svayam haatho se banaayaa thaa
Tretaa se kaliyug tak jitanii banii hai raajadhaanii
Sab banaayaa vishvakarmaa ne baat hai jag jaanii
Svarg rachaa satayug men tretaamen lankaa banaate hai
Ham shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaana

Rachii dvaarikaa dvaapar men thii hastinaapur kaliyugii
Shrii vishvakarmaa jii kii mahimaa dikhatii hai har yugamen
Shrii kṛshṇ ne mitr sudaamaa ke chaaval khaaye the
Tiin muṭṭhii ke badale men tiino lok dilaaye the
Jab baat sudaamaa nagarii ke nirmaaṇ kii aayii thii
Vishvakarmaa jii ne hii sudaamaa nagarii banaaii thii
Jab kabhii aayii devalok men bhavy nirmaaṇ kii baat
Tab tab sabhii ko aayii hai shrii vishvakarmaa kii yaad
Har yug men shrii vishvakarmaa jii puuje jaate hai
Ham shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaatehai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaan

Shilpkaar ke rup men unako milaa uchch sthaan
Vishvakarmaa se ban gae vo vishvakarmaa bhagavaan
Ek powraaṇik kathaa hai unakii jo hai badii praachiin
Pati patnii donon saath men rahate vo the bade gariib
Kisii kisii din bhojan unako hotaa nahiin nasiib
Din bhar mehanat karane ke badale itanaa hii ho taapraapt
Pati patnii kaa bhojan usame hotaa nahiin paryaapt
Uupar se owlaad ke lie nii rabahaate hai
Ham shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaana

Putr praapti ke lie donon gae santo ke paas
Lekin vo santo ke dar se loṭe ho ke niraash
Man men vyathit bahut the donon chintaa rahii thii khaay
Unakii is phuuṭii kismatakaa milataa nahiin upaay
Tabhii ek braahmaṇ aakar rathakaar se kahataahai
Kyon bhaaii tuu duahkh men har dam ḍuubaa rahataa hai
Vishvakarmaa bhagavaan sharaṇ men donon jaao tum
Saarii samasyaa apanii jaake unhen sunaao tum
Vishvakarmaa bhagavaan sabhii ke kashṭ miṭaate hai
Ham shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaan

Amaavasyaa ko vrat khaanaa tum pure vidhi vidhaan
Saare manorath puurṇ karenge vishvakarmaa bhagavaan
Aayii tithi jab amaavasyaa kii vrat karate hai donon
Vishvakarmaa bhagavaan kii puujaa karate hai donon
Dhiire dhiire saare manorathapuurṇ ho jaate hai
Nirdhanataa se bhare bure din duur ho jaate hai
Putr ratan dhan praapt ho gayaa ho gae vo khushahaal
Bhar gayaa ghar dhan dhaany se unakaa ho gaye maalaamaal
Vishvakarmaa bhagavaan kii vo jayakaar lagaate hai
Ham shrii vishvakarmaa jii kii paavan kathaa sunaate hai
Tum shilp kalaa kii khaan he vishvakarmaa bhagavaan 
He vishvakarmaa bhagavaan tum shilp kalaa kii khaana

और मनमोहक भजन :-

अगर आपको यह भजन अच्छा लगा हो तो कृपया इसे अन्य लोगो तक साझा करें एवं किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए कमेंट करें।

Singer - Rakesh Kala